trumpवाशिंगटन,   रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के संभावित प्रत्याशी डोनाल्ड ट्रम्प ने फ्लोरिडा के आर्नेन्डो घटना के बाद मुसलमानों के प्रति अपना रूख और कड़ा कर लिया है और कहा है कि वह वहाँ शरणर्थी की भीड़ में आते और हमारे बच्चों को भी अपने विचारों में रंग कर उन्हें साथ लेने का प्रयास करते है।

श्री ट्रम्प पहले आतंकवादी हमलों में मुसलमानों के शामिल होने की घटनाओं को देखते हुये अमेरिका में उनके प्रवेश पर अस्थाई रोक लगाने की मांग कर चुके हैं। उनके इस वक्त्व्य की न केवल अमेरिका बल्कि अमेरिका के बाहर भी कड़ी आलोचना हो चुकी है।

मुसलमानों के प्रवेश पर रोक की पहले की टिप्पणी की आलोचना की परवाह न कर ट्रम्प ने आर्लेंडो की घटना पर अपनी एक तीखी प्रतिक्रिया में कहा कि अमेरिका को अपने आप्रवास कानून को स्थागित कर कम से कम उन देशों के मुसलमानों के प्रवेश पर रोक लगानी चाहिये जिनका प्रामाणिक इतिहास आतंकवाद से जुडे होने की है।

उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा विषय पर अपने भाषण में कहा कि उग्रवादी इस्लाम का सच हमारे सामने है जिस युवक ने 49 लोगों की जान ली वह इस्लाम की उग्रवादी विचारधारा और उसको आगे बढ़ाने वाले आतंकवादी गुट से प्रभावित थी।
श्री ट्रम्प ने कहा कि अगर वह राष्ट्रपति पद का चुनाव जीत गये तो अपने कार्यपालिका संबंधी आदेश से उन देशों से मुसलमानों के अमेरिका में प्रवेश पर रोक लगा देंगे जो इस्लामिक आतंकवाद में लिप्त है।

उन्होंने कहा कि अमेरिकी नागरिकों की रक्षा के लिए यह कदम आवश्यक है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से इस प्रकार की अस्थाई रोक लगायी जानी चाहिये। उन्होंने कहा कि यह रोक तब तक जारी रहेगी जब तक हम अपने यहाँ ऐसे लोगों की पहचान नहीं कर लेते।

Related Posts: