azizइस्लामाबाद, 15 जुलाई. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश और राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने भारत के साथ बातचीत के लिये ‘बैक चैनल’ का रास्ता इस्तेमाल करने को पूरी तरह सही करार देते हुए कहा है कि संवेदनशील मुद्दों पर बातचीत आगे बढ़ाने के लिये यह जरूरी है।

श्री अजीज ने अंग्रजी दैनिक ‘डॉन’ के साथ बातचीत में कहा कि सरकारों के बीच जो बातचीत सबकी नजरों के सामने या फ्रंट चैनल पर होती है उसमें संवेदनशील मुद्दों पर आगे बढऩा बेहद मुश्किल होता है। उनका कहना था कि ऐसे मुद्दों के लिये बातचीत के दोनों रास्तों का इस्तेमाल किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले श्री अजीज ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि श्री शरीफ और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दोनों पड़ोसी देशों के रिश्तों को मजबूत बनाने में बाधा बन रहे कशमीर जैसे लंबित मुद्दों पर बातचीत के लिये दूसरा रास्ता ‘ट्रेक टू’ बहाल करने पर सहमत हो गये हैं। श्री शरीफ और श्री मोदी के बीच रूस के ऊफा में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के शिखर सम्मेलन के इतर बैठक हुई थी।

इस बैठक के बाद जारी संयुक्त वक्तव्य में सभी लंबित मुद्दों पर बातचीत आगे बढ़ाने की बात कही थी लेकिन इसमें कश्मीर मुद्दे का जिक्र नहीं किया गया था। इस मुद्दे को लेकर पाकिस्तान में तीखी प्रतिक्रिया हुई थी और विपक्षी नेताओं ने इसकी खासी आलोचना की थी। तब श्री अजीज ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा था कि कश्मीर मुद्दे को एजेंडे में शामिल किए बिना भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता आगे नहीं बढ़ सकती। साथ ही उन्होंने यह भी जोड़ा कि इस मुद्दे पर ‘ट्रैक टू’ के जरिए बातचीत की जाएगी। ‘डॉन’ के साथ बातचीत में श्री अजीज ने सफाई देते हुए कहा कि ‘ट्रेक टू’ से उनका मतलब पर्दे के पीछे होने वाली बातचीत से था।

Related Posts: