fdiनयी दिल्ली, वाम दलों ने अर्थव्यवस्था के 15 प्रमुख क्षेत्रों में विदेशी प्रत्यक्ष निवेश के प्रावधानों में भारी ढील देने के लिए सरकार की तीखी आलोचना करते हुए आज कहा कि इनसे बहुराष्ट्रीय कंपनियों को देश को लूटने का मौका मिलेगा और राजनीति में उनका प्रभाव बढ़ेगा.

सरकार ने रक्षा, विनिर्माण, निर्माण, कृषि, एकल ब्रांड खुदरा कारोबार एवं थोक कारोबार, निजी बैंक, नागरिक उड्डयन, खनन और प्रसारण समेत 15 उद्योग क्षेत्रों में विदेशी पूंजी आकर्षित करने के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नीति में भारी बदलाव करने की घोषणा की है।

इन क्षेत्रों में एफडीआई संबंंधी नियमों में ढील देते हुए भारी बदलाव किए गए हैं और निवेश की सीमा बढ़ा दी गयी है। खनन एवं खनिज में टाईटेनियम अलग -अलग करने और भागीदारी में उत्तरदायित्व कम करने जैसे फैसले भी किए गए हैं.

Related Posts: