नयी दिल्ली,

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तपेदिक को बडी चुनौती बताते हुए सभी से इसके उन्मूलन के लिए मिलकर काम करने का आह्वान किया है।

विश्व क्षय रोग दिवस पर श्री कोविंद ने आज अपने संदेश में कहा है कि क्षय रोग देश की सबसे बड़ी जनस्वास्थ्य चुनौतियों में से एक बना हुआ है। अब समय आ गया है कि हम सब 2025 तक भारत से क्षय रोग को मिटाने के एेतिहासिक अभियान में शामिल हों।

उन्होंने कहा,“ विश्व क्षय रोग दिवस के अवसर पर मैं सभी हितधारकों से आग्रह करता हूं कि सब क्षय रोग के विरुद्ध मिलकर संघर्ष करें तथा क्षय रोग को समाप्त करने के लिए आवश्यक कदम उठाएं। आइए, क्षय रोग मुक्त भारत के लिए सभी मिलकर कार्य करें।”

श्री मोदी ने अपने संदेश में कहा है, “ मैं सभी नागरिकों तथा संगठनों से तपेदिक के उन्मूलन के अभियान में बढ चढ कर सहयोग करने का अनुरोध करता हूं। तपेदिक मुक्त भारत मानवता के लिए सबसे अच्छी सेवा होगी। ”

उन्होंने कहा कि सरकार देश को तपेदिक मुक्त बनाने के लिए मिशन के तौर पर काम कर रही है। दुनिया ने तपेदिक से मुक्ति का लक्ष्य 2030 रखा है लेकिन हम वर्ष 2025 तक तपेदिक मुक्त होना चाहते हैं।

Related Posts: