savitriमालदा,  मालदा में तृणमूल नेताओं के बीच रस्साकशी का खेल जारी है. जिले के दोनों मंत्री पहले भी आपस में भिड़ते रहे हैं और दोनों के बीच हमेशा ही घमासान की स्थिति मची रहती है. तृणमूल कांग्रेस के दोनों नेताओं के बीच एक बार फिर से अंतर्कलह उभर कर सामने आया है.

ताजा मामला प्राणी संपदा विकास सप्ताह पालन के लिए आयोजित कार्यक्रम को लेकर है. बीच कार्यक्रम में ही उठकर मंत्री सावित्री मित्रा चली गईं. एक मंत्री के अचानक सरकारी कार्यक्रम छोड़कर चले जाने से विभागीय अधिकारियों में खलबली मच गई. सरकारी अधिकारी हालांकि इस बारे में खुलकर कुछ भी नहीं कहना चाहते. प्राप्त जानकारी के अनुसार इस कार्यक्रम का उद्घाटनकर्ता उद्यान पालन एवं कानन मंत्री कृष्णेन्दू चौधरी थे, जबकि मुख्य अतिथि के रूप में राहत एवं पुनर्वास मंत्री सावित्री मित्रा को आमंत्रित किया गया था.

इस बीच, कार्यक्रम सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मंत्री सावित्री मित्रा ने समारोह शुरू होने से पहले ही अधिकारियों से पहले भाषण देने के लिए बुलाने की मांग की थी. तब अधिकारियों ने उन्हें कुछ भी नहीं बताया. समारोह के उद्घाटनकर्ता मंत्री कृष्णेन्दु चौधरी थे, इसलिए भाषण देने के लिए पहले उन्हें ही आमंत्रित किया गया. समारोह आयोजकों द्वारा मंत्री कृष्णेन्दू चौधरी का राम पुकारते ही सावित्री मित्रा का पारा चढ़ गया. बगैर किसी को कुछ बोले वह मंच से उठीं और चलते बनीं. यहां उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय प्राणी संपदा विकास सप्ताह का आयोजन 13 नवंबर से जारी है.

इस समारोह में दोनों मंत्री कृष्णेन्दू चौधरी, सावित्री मित्रा के अलावा वरिष्ठ विभागीय अधिकारी उपस्थित थे. बाद में समारोह को संबोधित करते हुए मंत्री कृष्णेन्दु चौधरी ने कहा कि सिर्फ विकास सप्ताह के आयोजन से ही कुछ नहीं होगा.

विभाग को ऐसी व्यवस्था करनी होगी जिससे बेरोजगारों को रोजगार मिल सके. सभी बेरोजगारों को नौकरी देना संभव नहीं है, लेकिन सरकारी योजनाओं के माध्यम से उन्हें स्वनिर्भर बनाया जा सकता है. मुर्गी, बकरी पालन आदि के द्वारा बेरोजगार युवक-युवती स्वनिर्भर हो सकते हैं.

Related Posts: