मुरैना,  अवैध शराब के खिलाफ कार्रवाई के दौरान रिठौरा पुलिस के चंगुल से एक युवक भाग निकला. जिसकी नहर में डूबने से मौत हो गई. युवक के परिजन सहित गुस्साए लोगों ने शव को सड़क पर रखकर चक्काजाम कर दिया.

प्रदर्शन में क्षेत्रीय विधायक रुस्तम सिंह के साथ भाजपा, कांग्रेस के तमाम कद्दावर नेता भी शामिल थे. तकरीबन पांच घंटे तक चला घटनाक्रम कलेक्टर-एसपी के मौके पर पहुंचनें के बाद खत्म हुआ. कलेक्टर ने मृतक के परिजन को रेडक्रॉस से 50 हजार की सहायता दिए जाने की घोषणा की है. वहीं एसपी ने रिठौरा एसओ को सस्पैण्ड कर दिया है.

बकौल पुलिस रिठौराकलां एसओ गौरव शर्मा पुलिस टीम के साथ मंगलवार की रात गश्त पर थे. तभी बमरौली के पास बाइक सवार दो युवक शराब की तस्करी करते दिखाई दिए. पुलिस ने दबोचने की कोशिश की. इस दौरान लल्ला नाम के एक युवक को पुलिस ने दबोच लिया. जबकि दूसरा छुन्ना पुत्र सिकंदर गुर्जर 20 नि. बमरौली नहर की ओर भाग निकला. युवक के कब्जे से पुलिस ने 72 लीटर शराब जप्त की. पुलिस ने युवक के खिलाफ मामला भी दर्ज किया है.

उधर छुन्ना के परिजन को कार्रवाई की भनक लगी तो वे रात को ही रिठौरा थाने पहुंच गए. पुलिस द्वारा गिरफ्तारी से इंकार किए जाने पर परिजन ने नहर में पानी बंद कराने के बाद छुन्ना की तलाश की. नहर से छुन्ना का शव बरामद हुआ. जिसके बाद गुस्साए परिजन ने बुधवार की सुबह शव को बिचौला रोड पर रखकर हंगामा करना शुरू कर दिया. परिजन द्वारा रिठौरा पुलिस पर मारपीट कर छुन्ना की हत्या के आरोप लगाए जा रहे थे.

हंगामा और चक्काजाम में दोपहर तक क्षेत्रीय विधायक रुस्तम सिंह सहित गुर्जर विकास संगठन के प्रदेशाध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह हर्षाना रान्सू, दिनेश गुर्जर, रघुराज सिंह कंषाना भी शामिल हो चुके थे. दोपहर करीब तीन बजे कलेक्टर विनोद शर्मा एवं एसपी विनीत खन्ना मौके पर पहुंचें. गुस्साए लोगों द्वारा रिठौरा एसओ गौरव शर्मा सहित अन्य पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई, मृतक के परिजन को 25 लाख की सहायता, बोर्ड सहित ग्रामीणों की मौजूदगी में पोस्टमार्टम व घटना की मजिस्ट्रीयल जांच कराए जाने की मांगें अधिकारियों के समक्ष रखी गई.

Related Posts: