mayawatiलखनऊ,   बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने आज कहा कि कल विजयदशमी के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा “सर्जिकल स्ट्राइक” को लेकर सेना की तारीफ में एक शब्द भी नही बोलना अफसोसजनक रहा।

लखनऊ में कल प्रधानमंत्री के दशहरा उत्सव में शामिल होने की परम्परा को राजनीति अाैर चुनावी स्वार्थ से प्रेरित कदम बताते हुये सुश्री मायावती ने कहा “ श्री मोदी ने अपने भाषण में आतंकवाद को खत्म करने के लिये जटायु और श्रीराम आदि का वर्णन किया जो अच्छी बात है, मगर आतंकी कैम्पों पर ‘‘सर्जिकल स्ट्राइक‘‘ करने पर सेना के लिये तारीफ के एक शब्द भी नहीं कहना बड़े खेद का विषय है।

” उन्होने कहा कि देश के लोगों को बहुत अच्छा लगता अगर प्रधानमंत्री ‘‘सर्जिकल स्ट्राइक‘‘ के लिये सुनियोजित तौर पर दूसरों से अपनी तारीफ करवाते रहने के बजाय विरोधी दलों की तरह ही सीधे अपने मुँह से उस सेना का गुणगान करते, जिन्होंने सरहद की सलामती का काफी कठिन ज़िम्मा अपने सर पर लिया हुआ है।

अपनी जान को हथेली पर रखकर नियन्त्रण रेखा के पार जाकर सेना ने पाकिस्तान में आतंकी कैम्पों को तबाह किया वह निसंदेह तारीफ के काबिल है। बसपा प्रमुख ने कहा कि ऐशबाग रामलीला मैदान के आसपास लगे पोस्टर, बैनर और होर्डिंग सर्जिकल स्ट्राइक की सफलता के लिये सेना के बजाय उन्हें ही ज्यादातर श्रेय देते नजर आ रहे थे। यह पार्टी की गलत नीयत को दर्शाता है।

Related Posts: