digvijayभोपाल,   विधानसभा में 1993 से 2003 के बीच की गईं नियम विरुद्ध नियुक्तियों के मामले में शुक्रवार को अदालत ने पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है.

पुलिस ने इस मामले में दिग्विजय समेत आठ आरोपियों के खिलाफ विशेष न्यायाधीश काशीनाथ सिंह की कोर्ट में पूरक चालान पेश किया है. पुलिस ने अदालत में चालान पेश करने की सूचना का नोटिस दिग्विजय सिंह को उनके भोपाल स्थित निवास, बी-1 श्यामला हिल्स के पते पर तामील कराए जाने की रिपोर्ट के साथ ही दिग्विजय सिंह को उनके ई- मेल अकाउंट पर नोटिस भेजकर उसकी डिलीवरी रिपोर्ट की प्रति भी अदालत में पेश की थी. दिग्विजय के वकील अजय गुप्ता ने अदालत में आवेदन पेश कर दिग्विजय को अन्य पेशी तारीख पर अदालत में हाजिर होने की अनुमति दिए जाने की मांग की थी.

सरकारी वकील ने आवेदन का विरोध करते हुए कहा कि उन्हें अदालत में चालान पेश किए जाने की सूचना प्राप्त होने के बावजूद दिग्विजय सिंह अदालत में हाजिर नहीं हुए हैं इसलिए आवेदन निरस्त कर उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया जाए. न्यायाधीश ने दोनों पक्षों की बहस सुनने के पश्चात दिग्विजय सिंह के वकील का आवेदन निरस्त कर उनके खिलाफ गिरफतारी वारंट जारी किए जाने के आदेश दिए. पुलिस ने दिग्विजय सिंह के अलावा मध्य प्रदेश विधानसभा पूर्व प्रमुख सचिव एके प्यासी, पूर्व सचिव अशोक चतुर्वेदी, पूर्व अध्यक्ष के पूर्व निज सचिव रमाशंकर मिश्रा , पूर्व अवर सचिव केके कौशल, पूर्व सहायक मार्शल कुलदीप पांडे उर्फ प्रदीप पांडे , योगेश मिश्रा और श्रीमती सुषमा द्विवेदी के खिलाफ विशेष न्यायाधीश काशीनाथ सिंह की कोर्ट में पूरक चालान पेश किया है. एके प्यासी और केके कौशल अग्रिम जमानत पर थे, जबकि अन्य आरोपियों को अदालत तीस-तीस हजार रुपए की जमानत और इतनी ही राशि का निजी मुचलका पेश करने पर रिहा करने के आदेश दिए.

मामले की अगली सुनवाई अदालत में पहले से ही 14 मार्च को पहले से ही नियत है। लेकिन मामले की जांच कर रहे जहांगीराबाद संभाग के सीएसपी सलीम खां इसी माह की 29 तारीख को सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं. इसलिए उन्होंने पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के खिलाफ पेशी तारीख से पहले ही अदालत में चालान पेश कर दिया. हालांकि पेशी तारीख से पहले चालान पेश किया जा सकता है. लेकिन यह मामला हाईप्रोफाईल होने से इस बारे में अदालत के गलियारों में चर्चाएं चल रही थीं कि सलीम ने सरकार को खुश करने के लिए अपनी सेवानिवृत्ति से ऐन पहले अदालत में नियत पेशी तारीख से पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के खिलाफ पेशी तारीख से पहले ही अदालत में चालान पेश किया है.