नयी दिल्ली,

दिल्ली में सीलिंग को लेकर मचे हाहाकार के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर इसके समाधान के लिए कानून बनाने का अनुरोध किया है।लाजपत नगर क्षेत्र में गुरुवार को बड़े पैमाने पर सीलिंग की गई थी। इसके बाद वहां व्यापारियों ने काम बंद करके धरना-प्रदर्शन शुरु किया।

प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में श्री केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में आजकल व्यापारियों की दुकानें सील की जा रही हैं। ये वो व्यापारीहैं जो ईमानदारी के साथ 24 घंटे मेहनत करके अपना व्यापार चलाते हैं और सरकार को कर देते हैं। ये बेईमान नहीं हैं। ये वो लोग हैं जो देश के विकास में सहयोग करते हैं।

मुख्यमंत्री ने लिखा है कि सीलिंग का कारण कानून में कुछ विसंगतियां हैं और इन्हें दूर करने की जिम्मेदारी केन्द्र सरकार की है। सरकार ने समय रहते इन विसंगतियों को दूर नहीं की और खामियाजा व्यापारियों को भुगतना पड़ रहा है। सीलिंग रोकने के लिए तुरंत संसद में कानून बनाने की मांग की गई है।

उन्होंने एक पत्र कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी लिखा है जिसमें दुकानों की सीलिंग से लाखों लोगों की रोजी रोटी पर संकट की बात कही है। पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष से सीलिंग का मुद्दा संसद में जोरशोर से उठाने का आग्रह करते हुए केन्द्र सरकार को इस समस्या के समाधान के लिए विधेयक पारित करने को बाध्य करने की बात कही गई है। पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा है कि इस मुद्दे पर राजनीति से ऊपर उठकर समाधान निकालने की जररुत है।

श्री केजरीवाल ने प्रधानमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष से इस मुद्दे पर बातचीत करने के लिए समय भी मांगा है।
गौरतलब है कि कल धरने पर बैठे व्यापारियों को संबोधित करने के गए श्री केजरीवाल ने चेताया था कि यदि 31 मार्च तक सीलिंग का समाधान नहीं निकाला गया तो वह भूख हड़ताल पर बैठेंगे।

Related Posts: