modiनयी दिल्ली, 3 सितंबर. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुनिया के कई हिस्सों में बढ़ रही हिंसा पर चिंता व्यक्त करते हुए आज कहा कि विश्व की सभी समस्याओं को हल करने के लिए बातचीत ही एकमात्र रास्ता है।

श्री मोदी ने यहां ‘वैश्विक हिन्दू बौद्ध पहल-संवाद’ को संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया में ऐसी कोई भी समस्या नहीं है जिसका बातचीत के जरिए हल न ढूंढा जा सके। आज विश्व के कई देशों में बड़े भूभाग पर ऐसे असहिष्णु तत्वों का कब्जा है जिन पर सरकारों का नियंत्रण नहीं है। ऐसे तत्व निर्दोष लोगों पर अत्याचार कर रहे हैं। कार्यक्रम में श्रीलंका की पूर्व राष्ट्रपति चंद्रिका कुमारतुंगे और आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर भी मौजूद थे।

श्री मोदी ने कहा कि महात्मा बुद्ध का जीवन सेवा, करुणा और परित्याग का उदाहरण है। बौद्ध धर्म और पर्यावरण आपस में जुड़े हुए हैं। बौद्ध धर्म की दृष्टि में किसी भी चीज का स्वतंत्र अस्तित्व नहीं है। बौद्ध धर्म की शिक्षाओं में प्रकृति, जंगल, वृक्ष सहित सभी सांसारिक वस्तुओं का महत्व है।

Related Posts: