दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स

  • जापान की यामागूची ने संघर्षपूर्ण मुकाबले में हराया
  • सिंधू ने पहला सेट जीता, लेकिन अगले दो सेट हार गईं

दुबई,

ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु ने एक बार फिर इतिहास रचने से महरूम रह गईं. सिंधु को दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स में जापान की शीर्ष खिलाड़ी यामागुची ने एक संघर्षपूर्ण मुकाबले में मात दी. अगर वह ये खिताब जीत जातीं तो देश की पहली महिला खिलाड़ी होतीं, जिनके नाम ये खिताब होता. लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

खिताबी मुकाबले में दुनिया की दूसरे-नंबर की खिलाड़ी जापान की अकाने यामागुची ने सिंधु को 21-15,12-21, 19-21 से हराया. उम्मीद के मुताबिक दोनों के बीच मुकाबला कांटे का रहा. पहले गेम में जहां सिंधु ने यामागुची को 21-15 से हरा दिया तो दूसरे गेम में यामागुची ने वापसी की. तीसरा गेम काफी संघर्षपूर्ण रहा.

आखिर में ये गेम भी जापानी खिलाड़ी के नाम रहा. इससे पहले सिंधु ने शनिवार (16 दिसंबर) को चीन की चेन यूफेई को सीधे गेम में हराकर दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स के महिला एकल के खिताबी मुकाबले में प्रवेश किया.

दुनिया की तीसरे नंबर की खिलाड़ी सिंधू ने आठवें नंबर की चीन की खिलाड़ी को 59 मिनट में 21-15, 21-18 से हराया. सिंधु ने इसके साथ ही हमवतन साइना नेहवाल की बराबरी की जो 2011 में इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने में सफल रही थी.

साइना को फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था. ज्वाला गुट्टा और वी दीजू की मिश्रित युगल जोड़ी भी 2009 में फाइनल में पहुंची थी लेकिन उपविजेता बनकर संतोष करना पड़ा था.

चेन उभरती हुई खिलाड़ी है और उसने शानदार प्रदर्शन किया. उसका डिफेंस काफी मजबूत था. फाइनल में सिंधु का सामना दुनिया की दूसरे-नंबर की खिलाड़ी और शीर्ष वरीय जापान की अकाने यामागुची से होगा जिन्होंने एक अन्य सेमीफाइनल में थाईलैंड की रतचानोक इंतानोन को एक घंटा और 12 मिनट चले कड़े मुकाबले में 17-21, 21-12, 21-19 से हराया.

Related Posts: