arunनयी दिल्ली,  वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पर्यटन क्षमता को बढाने और पर्यटकों को आकर्षित करने की नयी नीति बनाने का आह्वान करते हुए आज कहा कि इस क्षेत्र की सभी उपलब्ध संभावनाओं का पूरा इस्तेमाल करके देश को मजबूत आर्थिक आधार प्रदान किया जा सकता है।

जेटली ने कहा कि दुनिया के कई देश सिर्फ पर्यटन पर निर्भर हैं और इसी से अपनी जीडीपी को नयी ऊंचाई प्रदान कर रहे हैं। हमारे यहां पिछले 68 वर्ष में पर्यटन को बढाने की बजाए उसे नुकसान पहुंचाने की कोशिश हुई जिसके कारण पर्यटकों को आकर्षिक करने के लिए प्रकृति प्रदत्त संभावनाओं का पूरा इस्तेमाल नहीं हो सका है।

इसके लितए पर्यटन क्षमता बढाने का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि देश को नयी पर्यटन नीति चाहिए ताकि पर्यटन के बल पर आर्थिक संपन्नता हासिल की जा सके। श्री जेटली ने यहां नयी दिल्ली नगरपालिका क्षेत्र में नौ एकड़ भूमि पर पंडित दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर प्रस्तावित पर्यटन भवन की आधारशिला रखते हुए कहा कि इस समय देश में 70 लाख पर्यटक हर साल आते हैं और इससे हमें एक लाख 23 हजार करोड़ रुपए की आमदनी होती है। इस आय को बढाने के लिए अगले पांच साल में पर्यटकों की संख्या सात करोड़ किए जाने का लक्ष्य निर्धारित होना चाहिए। जेटली ने पर्यटन आधारित आया बढाने के लिए पर्यटकों की संख्या बढाने की जरूरत पर बल दिया और कहा कि इसके लिए स्मारकों का बेहतर रखरखाव और उन्हें चमकाने की आवश्यकता है।

Related Posts: