01pic1नई दिल्ली,   सरकार रसोई गैस का डुप्लीकेट कनेक्शन रखने वालों की पहचान के लिए एक तंत्र विकसित कर रही है जिससे दो कनेक्शन रखना संभव नहीं होगा.

यह बात पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धमेन्द्र प्रधान ने आज यहां पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड (पीएलएल) और कतर के रास गैस के बीच संशोधित गैस अनुबंध समझौते के मौके पर कही. प्रधान ने कहा कि एक ऐसा तंत्र विकसित किया जा रहा है जिसके जरिए डुप्लीकेट कनेक्शन रखने वालों का आसानी से पता लगाया जा सकेगा . एक वर्ष के भीतर इस तंत्र के विकसित हो जाने की उम्मीद है .

प्रधान ने कहा कि देश में 27 करोड़ परिवार हैं जिनमें से साढ़े 16 करोड़ के पास रसोई गैस का कनेक्शन है .

Related Posts: