इंडियानापोलिस,  एच1बी वीजा को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सख्त रुख को देखते हुए सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की भारत की दूसरी बड़ी कंपनी इंफोसिस ने अगले दो साल में अमेरिका में चार प्रौद्योगिकी एवं नवाचार केंद्र शुरू करने और 10,000 अमेरिकी नागरिकों की नियुक्ति करने की योजना बनायी है।

इंफोसिस ने आज यहां जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि कंपनी इसी साल अगस्त में इंडियाना प्रांत में एक प्रौद्योगिकी केंद्र खोल रही और इसके बाद अगले दो साल में तीन और नये केंद्र खोले जायेंगे।

इंडियाना के केंद्र से 2021 तक दो हजार अमेरिकी नागरिकों को रोजगार मिलने की उम्मीद है।

कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्का ने कहा कि उनकी कंपनी की योजना आर्टिफिशल इंटेलिजेंस जैसे क्षेत्र में अमेरिकी नागरिकों की भर्ती करने की है।

उन्होंने कहा, “अगर इस पूरे मसले को अमेरिका के दृष्टिकोण से देखा जाये जो अमेरिकी नागरिकों के लिए रोजगार के अधिक अवसर पैदा होंगे, जो अच्छी बात है।

” सूत्रों के मुताबिक इंफोसिस ने इस साल के लिए गत माह मात्र एक हजार एच1बी वीजा के लिए अावेदन किया जबकि पिछले साल उसने 6,500 और वर्ष 2015 में 9,000 वीजा आवेदन किये थे।

Related Posts: