fireनैनीताल,  उत्तराखंड के वनों में लगी आग को बुझाने के कार्य में सेना के दो हेलिकॉप्टरों को लगाया गया है, लेकिन अत्यधिक धुंए के कारण ये प्रभावित क्षेत्रों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। जिलाधिकारी दीपक रावत के नेतृत्व एवं दिशा-निर्देश में आग बुझाने का कार्य किया जा रहा है।

श्री रावत ने बताया कि शासन द्वारा जिले को वनाग्नि से निपटने के लिए सेना के दो हेलिकाॅप्टर उपलब्ध कराये गये हैं। उन्होंने बताया कि सेना के हेलिकाॅप्टर प्रतिदिन हल्द्वानी से ईंधन आपूर्ति के उपरान्त प्रभावित क्षेत्रों की ओर उडान भरेंगे तथा आग बुझाने का काम करेंगे। ये हेलिकाप्टर भीमताल झील से पानी भरेंगे।

उन्होंने बताया कि रविवार को हेलिकाॅप्टर ने उडान भरी लेकिन किलबरी के आस-ंपास अत्यधिक धुंआं होने के कारण वह अपना कार्य नहीं कर सके। इन दोनों हेलिकाॅप्टर ने आज सुबह हल्द्वानी से प्रभावित क्षेत्रों के लिए उडान भरी। हेलिकाॅप्टरों की व्यवस्था एवं उडान के लिए संयुक्त मजिस्ट्रेट आशीष चैहान को नोडल अधिकारी बनाया गया है।

उन्होंने बताया कि जन सहयोग, अधिकारियों, राजस्व पुलिस, वन महकमें के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सहयोग से जिले में फैली आग पर तेजी से नियन्त्रण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक जिले में बारापत्थर, सडियाताल, अल्माखान, बिजलाजंगल, पंगोटमार्ग, टांकी, के अलावा धारी में टेडीवियर, खोली, सरना, डलौच, पनियाली, छलाड़, गलनी सिमलिया, के अलावा रामगढ़ में हरतौला, लोशानी, भेटिदियारखोली, डलौज, थलाडी , गरगडी रोड, धानाचूली ओखलकांडा के वनों में लगी आग पर नियन्त्रण पा लिया गया है।

Related Posts: