कई शहरों में सूरज ने नहीं दिए दर्शन

नवभारत न्यूज
भिण्ड/ बैतूल/ विदिशा/ होशंगाबाद

हाड़ कंपा देने वाली बर्फीली हवाऐं और चारों ओर फैला घना कोहरे के चलते सुनसान सड़कें। कुछ ऐसा ही नजारा अंचल में दिखाई दिया। जहां अल सुबह से ही चारों ओर घने कोहरे के चलते सफेद चादर पसरी रही। साल के पहले दिन कड़ाके की सर्दी ने अपना असर दिखाया। इस बीच शहरवासियों ने पूरे जोश और उल्लास के साथ नए साल का स्वागत किया।

नए साल की शुरुआत के साथ ही पहला दिन सर्दी के सीजन का सबसे ठंडा रहा। 31 दिसंबर को जहां सर्द हवाओं के चलते पारा का न्यूनतम स्तर 6 डिग्री सेल्सियश रहा। रविवार के रोज जहां शाम ढलने के साथ ही उत्तर की ओर से आने वाली बर्फीली हवाओं ने मौसम को ठंडा कर दिया वहीं सोमवार की सुबह घरों से निकले लोगों को चारों ओर घना कोहरा पसरा दिखा।

सुबह 6 से लेकर 10 बजे तक स्थिती यह रही कि चारों तरफ फैली घनी कोहरे की चादर के कारण यहां दृष्यता बेहद कम रही।इस दौरान विजिबलटी महज 5 मीटर रही। नए साल के पहले दिन ही कड़ाके की ठंड के चलते लोग घरों में दुबके रहे।

कोहरे में छिपा रहा सूरज

सोमवार को बर्फीली हवाओं ने जहां लोगों को हाड़ कंपाने वाली सर्दी से हलकान किया वहीं आसमान में दिन भर घना कोहरा छाया रहा। हालात यह रहे कि बीते रविवार देर रात से अंचल में छाई कोहरे की धुुंध के कारण भगवान भास्कर आसमान में छिपे रहे। यहां धूप न निकलने के कारण सर्दी का असर कुछ ज्यादा ही रहा। जिससे बचने के लिए लोगों को अलाव का सहारा लेना पड़ा।

रास्तों पर नहीं चले वाहन

सोमवार को घने कोहरे और विजिबलटी बेहद कम होने के कारण जिले की सड़कों पर वाहनों का आवागमन पूरी तरह से ठप्प रहा। आमतौर पर वाहनों की रफ्तार से गूंजने वाला एनएच 92 इस दौरान पूरी तरह से शांत दिखाई दिया। दोपहर 12 बजे तक वाहनों का आवागमन बंद रहा। हालांकि दोपहर 1 बजे के करीब हल्का कोहरा छंटने के बाद सड़कों पर वाहनों का आना-जाना शुरु हुआ।

Related Posts: