bpl3भोपाल,   भारतीय नववर्ष, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा, विक्रम संवत्-2073 के अभिनंदन में राजधानी के रंगमहल चौराहे पर संस्था कर्मश्री तथा हुजूर विधायक रामेश्वर शर्मा के तत्वावधान में आयोजित पंरपरागत अ. भा. कवि सम्मेलन में देशभर के ख्यातनाम कवियों की प्रस्तुतियों से पूरा माहौल काव्यमय हो गया है.

कवि सम्मेलन के आरंभ में आगरा से आईं गीत-गजल की कवियत्री रूची चतुर्वेदी ने- ‘वर दे वर दे, मातु शारदे, याचक को वर दे…’ के शब्दों के साथ सरस्वती वंदना की समधुर प्रस्तुती दी. चैत्र शुक्ल प्रतिपदा की सुहानी रात की ठंडी हवाओं में काव्यरस घुल चुका है.

इस 14वें आयोजन में कवि सम्मेलन का शुभारंभ रात 9.50 बजे गुफा मंदिर के महंत चंद्रमादास त्यागी, गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के ज्ञानी दिलीप सिंह, संस्था अध्यक्ष एवं हुजूर विधायक रामेश्वर शर्मा, विधायक सुरेंद्रनाथ सिंह, बीडीए अध्यक्ष ओम यादव, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष विजेश लूनावत, नगर निगम अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान, आवास संघ के पूर्व अध्यक्ष सुशील वासवानी, अनिल ‘लिली’ अग्रवाल सहित आमंत्रित कवियों द्वारा दीप प्रज्जवलन कर किया गया.

Related Posts: