pranabविंडहोएक,   राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी तीन अफ्रीकी देशों की अपनी यात्रा के अंतिम चरण में आज नामीबिया पहुच गए। श्री मुखर्जी कल नामीबिया के राष्ट्रपति हेग गेन्गोग से मुलाकात करेंगे और संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करेंगे। इस यात्रा के दौरान वह एक व्यावसायिक प्रतिष्ठान आैर विश्वविद्यालय में भाषण देंगे।

यात्रा के दूसरे और अंतिम दिन राष्ट्रपति नामीबिया के महान नेता सैन नुजुमा से मुलाकात करेंगे। भारत संयुक्त राष्ट्र में नामीबिया की आजादी की मांग करने वाले प्रथम राष्ट्रों में से था। 21 वर्ष पहले 1995 में किसी भारतीय गणतंत्र के प्रमुख नेता ने नामीबिया का दौरा किया था। इसके बाद 1998 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी यहां पर आए थे।

श्री मुखर्जी की इस यात्रा के दौरान रक्षा समझौते सहित करीब चार मामलों पर अनुबंध होने के आसार हैं। वर्ष 2009 के समझौते के अनुसार नामीबिया का भारत को यूरेनियम की आपूर्ति करने के मसले पर भी चर्चा हो सकती है।

Related Posts: