sharon woodleyहॉलीवुड की जानी-मानी अभिनेत्री शैलेन वुडली सभी के लिए समानता में विश्वास रखती हैं. शैलेन को स्वयं को नारीवादी कहलवाना पसंद नहीं है, क्योंकि उन्हें लगता है कि यह सिर्फ एक ठप्पा है. शैलेन ने कहा मुझे नारीवादी कहलाना पसंद नहीं है, क्योंकि मुझे लगता है कि यह सिर्फ एक ठप्पा है. मैं किसी एक वस्तु से स्वयं को परिभाषित करवाना पसंद नहीं करती. हमें बांटने वाले इस ठप्पे की जरूरत क्यों है? हमें इन ठप्पों के बिना एक-दूसरे को स्वीकार करना चाहिए.

शैलेन ने कहा मुझे पुरुष पसंद हैं और मुझे लगता है कि उन्हें सत्ता से दूर करने और महिलाओं को सत्ता में लाने के लिए आवाजें उठाई जा रही हैं. लेकिन यह तरकीब कारगर साबित नहीं होगी, क्योंकि आपको समाज में संतुलन चाहिए. मैं 50 प्रतिशत नारीवाद और 50 प्रतिशत पुरुषवादी हूँ. उन्होंने कहा यह समझना जरूरी है कि यदि पुरूष सत्ता से उतर जाएंगे और महिलाओं को सत्ता मिलेगी तो इससे भी बात नहीं बनेगी. हमें समाज में एक संतुलन बनाना होगा.

Related Posts: