arunसिंगापुर.  वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आने वाले दिनों में नये सुधार लागू करने का वादा करते हुए कहा कि भारत में काफी सार्वजनिक निवेश हो रहा है और आर्थिक वृद्धि को समर्थन देने के लिये सरकार का प्रयास है कि विदेशी निवेश सहित निजी क्षेत्र का निवेश भी तेजी से बढ़े.

विदेशी निवेशकों को भारत की वृद्धि में भागीदार बनने के लिए आमंत्रित करते हुए उन्होंने आश्वस्त किया कि निवेश अनुकूल माहौल तैयार करने के लिए सुधार प्रक्रिया जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि विदेशी निवेश प्रस्तावों के अटकने की कोई शिकायत नहीं है. प्रमुख सरकारी नेताओं और विदेशी निवेशकों से मिलने आए जेटली ने कहा कि भारत में जो हो रहा है उसके बारे में विश्व भर के निवेशक इसकी प्रशंसा कर रहे हैं.

वित्त मंत्री ने कहा निवेशकों को आज विश्व अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका वाले भारत से बड़ी उम्मीदें हैं. उन्होंने यहां मौजूद सिंगापुर के 300 उद्योगपतियों, निवेशकों और यूरोप तथा अमेरिका से वैश्विक इकाइयों के प्रतिनिधि के साथ विस्तृत चर्चा की. जेटली ने सुधारों को निरंतर चलने वाली प्रक्रिया करार देते हुए निवेशकों को आश्वस्त किया कि सरकार इन पहलों को बरकरार रखेगी ताकि भारत को आकर्षक निवेश गंतव्य और कारोबार के लिए बेहतर जगह बनाया जा सके.

जेटली ने कहा दिवालियापन संहिता तैयार है और मध्यस्थता कानून तथा कई अन्य कानूनों में बदलाव प्रक्रिया में हैं अगले कुछ साल के लिए हमारी कार्य-सूची पूरी है और सुधार निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है. जेटली ने कहा कि जिन विधेयकों को धन निधेयक के रूप में लिया जा सकता है उन्हें आगे बढ़ाया जाएगा. उन्होंने कहा धन विधेयक महत्वपूर्ण है क्योंकि इसे राज्य सभा में रोका नहीं जा सकता है, जहां राजग का बहुमत नहीं है.

Related Posts: