BSEमुंबई. बाजार में लगातार गिरावट का सिलसिला बरकरार है. आज भी बाजार हल्की कमजोरी के साथ ही बंद हुए हैं और इस तरह बाजार में लगातार सातवें दिन गिरावट दर्ज की गई है. दरअसल एमएससीआई इंडेक्स में चीन का दबदबा बढऩे की आशंका से बाजार सहम गए हैं. लेकिन निफ्टी में 8000 का स्तर टूटने से बच गया है.

मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी बिकवाली हावी रही. सीएनएक्स मिडकैप इंडेक्स 0.4 फीसदी की गिरावट के साथ 12477.4 के स्तर पर बंद हुआ है. वहीं बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स भी 0.3 फीसदी गिरकर 10660 के करीब बंद हुआ है.

रियल्टी, फार्मा, ऑटो और आईटी शेयरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव देखने को मिला है. बीएसई के रियल्टी, फार्मा, ऑटो और आईटी इंडेक्स 1.5-0.7 फीसदी तक गिरकर बंद हुए हैं. हालांकि कंज्यूमर ड्युरेबल्स, मेटल, पावर और बैंकिंग शेयरों में खरीदारी का रुझान रहा. बीएसई के कंज्यूमर ड्युरेबल्स, मेटल और पावर इंडेक्स में 1-0.4 फीसदी तक की बढ़त दर्ज की गई है. बैंक निफ्टी 0.3 फीसदी बढ़कर 17490 पर बंद हुआ है. सेंसेक्स 42 अंक यानि 0.2 फीसदी की कमजोरी के साथ 26481 के स्तर पर बंद हुआ है. वहीं एनएसई का निफ्टी 22 अंक यानि 0.3 फीसदी गिरकर 8022.4 के स्तर पर बंद हुआ है.

आज के कारोबारी सत्र में केर्न इंडिया, सिप्ला, बॉश, डॉ रेड्डीज, सन फार्मा, विप्रो और बजाज ऑटो जैसे दिग्गज शेयर सबसे ज्यादा 4.3-1.6 फीसदी तक कमजोर होकर बंद हुए हैं. हालांकि वेदांता, हिंडाल्को, आईसीआईसीआई बैंक, टाटा पावर, अंबुजा सीमेंट, एचयूएल, एचडीएफसी और गेल जैसे दिग्गज शेयर 3.1-1.2 फीसदी तक मजबूत होकर बंद हुए हैं.

मिडकैप शेयरों में अपोलो टायर्स, सीएट, ओसीएल इंडिया, जेट एयरवेज और रिसा इंटरनेशनल सबसे ज्यादा 8-4.9 फीसदी तक गिरकर बंद हुए हैं. स्मॉलकैप शेयरों में बीएस लिमिटेड, विविमेड लैब्स, इन्फिनाइट कंप्यूटर, ओडिशा स्पॉन्ज और एसई इन्वेस्टमेंट्स सबसे ज्यादा 13.3-6.6 फीसदी तक टूटकर बंद हुए हैं. निफ्टी और बैंक निफ्टी में शॉर्टकवरिंग हावी रही है. लेकिन एफएंडओ ट्रेडरों के लिए 8000 पर अहम सपोर्ट नजर आ रहा है. एमएससीआई इंडेक्स में चीन के ए-शेयर शामिल होने की खबरों का घरेलू बाजार में सीमित असर देखने को मिला है. लेकिन एमएससीआई इंडेक्स में बदलाव से बिकवाली बढ़ेगी. निफ्टी के और नीचे जाने की आशंका है. सिर्फ घरेलू बाजारों में नहीं, बल्कि दुनियाभर में कमजोरी का माहौल है.

Related Posts: