BSEमुंबई. बाजार में गिरावट का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। हफ्ते की शुरुआत भी बाजार के लिए गिरावट के साथ हुई है। सेंसेक्स और निफ्टी करीब 1 फीसदी गिरकर बंद हुए हैं। सेंसेक्स 26500 के करीब आ गया है, तो निफ्टी 8050 के भी नीचे फिसल गया है। यही नहीं, निफ्टी इस साल के सबसे निचले स्तर पर बंद हुआ है। सेंसेक्स 245.4 अंक यानि 0.9 फीसदी की गिरावट के साथ 26523 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं एनएसई का निफ्टी 70.5 अंक यानि 0.9 फीसदी गिरकर 8044 के स्तर पर बंद हुआ है।

मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी आज जोरदार बिकवाली देखने को मिली है। सीएनएक्स मिडकैप इंडेक्स 1.6 फीसदी गिरकर 12512 के स्तर पर बंद हुआ है, तो बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 1.5 फीसदी लुढ़ककर 10700 के नीचे बंद हुआ है। बैंक निफ्टी भी करीब 1 फीसदी कमजोर होकर 17406.85 के स्तर पर बंद हुआ है। बीएसई के सभी सेक्टर इंडेक्स लाल निशान में बंद हुए हैं। कंज्यूमर ड्युरेबल्स, मेटल, ऑयल एंड गैस, एफएमसीजी और फार्मा शेयरों की सबसे ज्यादा पिटाई हुई है। बीएसई के कंज्यूमर ड्युरेबल्स, मेटल, ऑयल एंड गैस, एफएमसीजी और फार्मा इंडेक्स में 1.9-1.2 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।आज के कारोबारी सत्र में दिग्गज शेयरों में पीएनबी, केर्न इंडिया, वेदांता, टाटा स्टील, बैंक ऑफ बड़ौदा, रिलायंस इंडस्ट्रीज, हीरो मोटो और सन फार्मा सबसे ज्यादा 3.75-2.2 फीसदी तक गिरकर बंद हुए हैं। हालांकि एनएमडीसी, बजाज ऑटो, टाटा पावर, एक्सिस बैंक, पावर ग्रिड, टीसीएस और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसे दिग्गज शेयर 1.3-0.15 फीसदी तक बढ़कर बंद हुए हैं। मिडकैप शेयरों में सीसीएल इंटरनेशनल, केएसके एनर्जी, एबीजी शिपयार्ड, श्रेई इंफ्रा और एनसीसी सबसे ज्यादा 8.5-5.7 फीसदी तक लुढ़ककर बंद हुए हैं। स्मॉलकैप शेयरों में विविमेड लैब्स, विसागर पॉलिटेक्स, सनराइज एशियन और शेषासयी पेपर सबसे ज्यादा 20-9.6 फीसदी तक टूटकर बंद हुए हैं। विदेशी बाजार में कमजोरी से घरेलू बाजारों में चिंता है। एफआईआई बिकवाली और बैंक शेयरों में गिरावट से बाजार में डर है। बाजार में गिरावट का खतरा बढ़ता जा रहा है। वहीं एमएससीआई में चीन के शामिल होने से भारत पर असर दिख रहा है। बाजार में तेज गिरावट से पहले एक उछाल संभव है। लेकिन बाजार में कमजोरी और बढऩे की आशंका है और बाजार में 8000 का स्तर टूट सकता है।

Related Posts: