BSEमुंबई. बाजार के लिए आज का दिन अमंगल साबित हुआ है. दलाल स्ट्रील, लाल स्ट्रीट में बदल गई. चारों तरफ हाहाकार ही था. सबसे पहले तो आरबीआई की क्रेडिट पॉलिसी ने बाजार पर दबाव बनाने का काम किया. आरबीआई ने भले ही रेपो रेट में कटौती की हो, लेकिन ग्रोथ के अनुमान में कमी करने और महंगाई दर के अनुमान में बढ़ोतरी से बाजार निराश हो गया.

आरबीआई के क्रेडिट पॉलिसी के ऐलान के बाद बाजार में तेज गिरावट देखने को मिली. वहीं सरकार के मॉनसून पर अनुमान घटाने से भी बाजार की हालत पतली हो गई. अंत में सेंसेक्स और निफ्टी में 2.25 फीसदी से ज्यादा की गिरावट के साथ बंद हुए हैं.

मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी बिकवाली हावी रही. सीएनएक्स मिडकैप इंडेक्स 2.2 फीसदी गिरकर 12900 के नीचे बंद हुआ है. बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स भी 2.1 फीसदी की कमजोरी के साथ 11050 के नीचे आकर बंद हुआ है.
सभी इंडेक्स लाल निशान में ही बंद हुए हैं. रियल्टी, बैंकिंग और एफएमसीजी शेयरों की सबसे ज्यादा पिटाई हुई है. बैंक निफ्टी 3.6 फीसदी लुढ़ककर 17944.5 के स्तर पर बंद हुआ है. 6 मई 2015 के बाद बैंक निफ्टी में सबसे बड़ी गिरावट आई है, तो 14 मई 2015 के बाद बैंक निफ्टी 18000 के नीचे फिसला है. सीएनएक्स रियल्टी इंडेक्स में 4 फीसदी गिरा है और बीएसई का एफएमसीजी इंडेक्स करीब 3 फीसदी गिरा है. ऑटो, मेटल, कैपिटल गुड्स और फार्मा शेयरों में भी तेज बिकवाली देखने को मिली है.

सेंसेक्स 660.6 अंक यानि 2.4 फीसदी की गिरावट के साथ 27188.4 के स्तर पर बंद हुआ है. वहीं एनएसई का स निफ्टी 197 अंक यानि 2.3 फीसदी गिरकर 8236.5 के स्तर पर बंद हुआ है.

आज के कारोबारी सत्र में दिग्गज शेयरों में एक्सिस बैंक, एसबीआई, इंडसइंड बैंक, आईटीसी, हिंडाल्को और आईसीआईसीआई बैंक सबसे ज्यादा 4.4-3.7 फीसदी तक गिरकर बंद हुए हैं. बैंक निफ्टी में 50 फीसदी गिरावट आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक के कारण आई है. वहीं निफ्टी की गिरावट में आईटीसी और एचडीएफसी का सबसे बड़ा हाथ रहा. हालांकि जी एंटरटेनमेंट, ल्यूपिन और भारती एयरटेल जैसे दिग्गज शेयर 2.25—-0.4 फीसदी तक बढ़कर बंद हुए हैं.