chinaश्रीनगर,  लद्दाख में लगातार चीनी सेना की घुसपैठ की घटनाओं के बाद पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों को अब पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में नियंत्रण रेखा पर स्थित चौकियों पर देखा गया है.

चीनी सैनिकों को देखने के बाद से सुरक्षा बल सजग हो गए हैं. घटनाक्रमों की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि सेना ने उत्तर कश्मीर के नौगांव सेक्टर के सामने स्थित अग्रिम चौकियों पर पीएलए के वरिष्ठ अधिकारियों को देखा.

इसके बाद पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों के कुछ संवाद समाने आए हैं, जिनसे पता चलता है कि चीनी सैनिक नियंत्रण रेखा से लगे इलाकों में कुछ निर्माण कार्य करने आए हैं. सूत्रों ने कहा कि सेना ने इस मुद्दे पर आधिकारिक रूप से पूरी तरह चुप्पी साधी रखी है, लेकिन वह विभिन्न खुफिया एजेंसियों को नियंत्रण रेखा पर पीएलए सैनिकों की मौजूदगी की लगातार सूचनाएं दे रही है. पिछले साल के आखिर में पीएलए सैनिकों को पहली बार देखा गया था और तब से तंगधार सेक्टर के सामने भी उनकी मौजूदगी देखी गई है.

इस इलाके में चीनी सरकार के स्वामित्व वाली चाइना गेझौबा ग्रुप कंपनी लिमिटेड 970 मेगवाट की झेलम-नीलम पनबिजली परियोजना का निर्माण कर रही है. यह पनबिजली परियोजना उत्तर कश्मीर के बांदीपोरा में भारत द्वारा बनाई जा रही किशनगंगा विद्युत परियोजना के जवाब में बनाई जा रही है. किशनगंगा परियोजना 2007 में शुरु हुई थी और इस साल इसके पूरे होने की उम्मीद है.

पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों की बातचीत में यह भी पता चला कि चीनी सेना पीओके में स्थित लीपा घाटी में कुछ सुरंगें खोदने का काम करेगी. ये सुरंगें हर मौसम में चालू रहने वाली एक सड़क के निर्माण के लिए खोदी जाएंगी. यह सड़क काराकोरम राजमार्ग जाने के एक वैकल्पिक रास्ते के तौर पर काम करेगी.

पीएलए अधिकारियों के दौरे को कुछ विशेषज्ञ 46 अरब डॉलर की लागत से चीन द्वारा बनाए जा रहे चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) के हिस्से के तौर पर देख रहे हैं. इसके तहत कराची के ग्वादर बंदरगाह को काराकोरम राजमार्ग के रास्ते चीन के शिनजियांग प्रांत से जोड़ा जाएगा.

Related Posts:

अमेरिका ने किया आगाह: भारत का रूख कर सकता है लश्कर
ब्लैकमनी बिल पारित, विदेश में जमा धन पर कसेगा शिकंजा
पाकिस्तान ने हाफिज को आतंकी माना, लश्कर-जमात की कवरेज बैन
विश्व के सामने विविधता को व्यवहार में लाने की चुनौती : अंसारी
ट्रंप ने नील गोर्सचर को सुप्रीम कोर्ट जज नियुक्त किया
व्हाइट हाऊस ने ग्रीन कार्ड धारकों के लिये नये दिशा निर्देश जारी किये