shivrajभोपाल,  प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चीन यात्रा से लौटने के बाद कहा कि वे प्रदेश के विकास के लिए निवेश एवं दोनों देशों के बीच मजबूत संबंधों के लिए वहां गए थे.

रविवार दोपहर मुख्यमंत्री निवास पर चौहान ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए अपनी यात्रा का खुलासा किया. उन्होंने बताया कि वहां पर कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार है, इसलिए आपसी तालमेल के लिए यह यात्रा सार्थक रही है.

हमें एक-दूसरे को जानने-पहचानने का अवसर मिला है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित केन्द्रीय मंत्री चीन की यात्रा कर चुके हैं. एनएसजी के मुद्ïदे पर चीन द्वारा भारत का विरोध करने पर इन्होंने कहा कि किसी एक बात से भविष्य के संबंधों के दरवाजे बंद नहीं हो जाते. सभी अपने-अपने हित साधने की कोशिश करते हैं.
लेकिन हमने देखा कि चीन में भी भारत से मजबूत संबंध बनाने की ललक है.

हमने मप्र के विकास, इतिहास एवं आर्थिक स्थिति से चीन के डेलीगेशन को विभिन्न स्तरों पर समझाया है. यह यात्रा भारत के विदेश मंत्रालय और इंटरनेशनल डिपार्टमेंट सेंटर कमेटी कम्युनिष्ट पार्टी ऑफ चाइना के बीच एक्सचेंज प्रोग्राम योजना के अंतर्गत की गई.

Related Posts: