sonia_rahulनयी दिल्ली,  नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत सभी अारोपियों को निचली अदालत में पेशी से 19 दिसबंर तक राहत मिल गयी है।

पटियाला हाउस कोर्ट ने आज इस मामले की अगली सुनवाई के लिए 19 दिसंबर की तारीख तय करते हुए सभी आरोपियों को इस दिन पेश होने का आदेश दिया। कल उच्च न्यायालय द्वारा पेशी से राहत की याचिका खारिज हो जाने के बाद श्रीमती गांधी और श्री राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस के दूसरे नेताओं मोतीलाल वोरा, सुमन दुबे, ऑस्कर फर्नांडिस और सैम पित्रोदा को भी धोखाधड़ी, दूसरे की संपत्ति गलत तरीके से इस्तेमाल करने और वादाखिलाफी के आरोप में आज अदालत में हाजिर होने के लिए समन जारी किया गया था।

बचाव पक्ष के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने निचली अदालत से मिली राहत पर संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने अदालत को बताया कि कल ही उच्च न्यायालय का फैसला आया है और उसके आदेश के अनुसार सभी लोग पेश होने के लिए तैयार है लेकिन चूंकि श्री राहुल गांधी बाढ़ का जायजा लेने चेन्नई गए हैं और श्रीमती गांधी संसद सत्र में व्यस्त हैं और श्री पित्रौदा लंदन में हैं इसलिए पेशी के लिए थोडी मोहलत दे दी जाए जिसपर अदालत ने 19 दिसंबर की तारीख मुकर्रर कर दी।

श्री सिंघवी ने कहा कि यह पूरा मामला राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित है इसलिए हमारा पक्ष मजबूत है। हम कानूनी दायरे में अपनी लड़ाई लड़ेंगे। आगे की रणनीति के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा,’रणनीति कैमरे पर बताने के लिए नहीं है।’

कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ इस मामले को अदालत में ले जाने वाले भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने अदालत के फैसले पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि श्री सिंघवी ने पेशी के लिए मोहलत मांगी जिसपर अदालत ने मुझसे पूछा की मेरा क्या कहना है तो मैंने कह दिया कि जो भी नजदीक की तारीख हो दे दी जाए।

श्री स्वामी ने नेशनल हेराल्ड मामले में अदालत में केैविएट दाखिल कर रखी है जिसके अनुसार बचाव पक्ष के बारे में कोई भी फैसला सुनाए जाने के पहले अदालत श्री स्वामी से इस बारे में उनकी राय जरूर पूछेगी। इस बीच, कांग्रेस की कोशिश होगी की उसके नेताओं को उच्चतम न्यायालय से राहत मिल जाए।