heraldनयी दिल्ली,  दिल्ली उच्च न्यायालय ने नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी एवं पार्टी के अन्य नेताओं को गहरा झटका देते हुए समन के खिलाफ उनकी याचिका आज निरस्त कर दी।

न्यायमूर्ति सुनील गौड़ ने कांग्रेस नेताओं की याचिका यह कहते हुए खारिज कर दी कि नेशनल हेराल्ड के प्रकाशक एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड काे 90 करोड़ 25 लाख रुपये की ब्याज-मुक्त ऋण यंग इंडिया को सौंपने की क्या जरूरत थी। एकल पीठ ने टिप्पणी की कि इस मामले में अपनाई गई प्रक्रिया संदेह के दायरे में है। उच्च न्यायालय ने इन सभी को नेशनल हेराल्ड मामले में निचली अदालत में पेश होने के आदेश दिए हैं।

इन सभी को अब मंगलवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश होना होगा। उल्‍लेखनीय है कि 26 जून 2014 को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने भारतीय जनता पार्टी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका पर श्रीमती गांधी, राहुल गांधी के अलावा मोतीलाल वोरा, सुमन दूबे और सैम पित्रोदा को समन जारी करके व्यक्तिगत रूप से पेश होने के आदेश जारी किए थे।

कांग्रेस नेताओं ने इसके खिलाफ उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी, जिसने समन पर रोक लगा दी थी। गत चार दिसंबर को उच्च न्यायालय ने सुनवाई पूरी करके आदेश सुरक्षित रख लिया था।

Related Posts: