deepalmishraवर्ष 1993 के मुंबई बम धमाकों के दोषी याकूब अब्दुल रज्जाक मेमन की फांसी बरकरार रखने वाली उच्चतम न्यायालय की खंडपीठ के एक सदस्य को जान से मारने की धमकी मिली है इसके साथ ही उनकी सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

पुलिस सूत्रों ने आज यहां बताया कि खंडपीठ की अगुवाई करने वाले न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा के आवास पर एक गुमनाम चि_ी आई है, जिसमें उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई है. इस चि_ी के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने एक मामला दर्ज किया है और न्यायमूर्ति मिश्रा के अलावा खंडपीठ के दो अन्य सदस्यों -न्यायमूर्ति प्रफुल्ल चंद पंत और न्यायमूर्ति अमिताभ रॉय- की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

Related Posts: