भोपाल,

उच्चतम न्यायालय के संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ को सभी राज्यों में प्रदर्शित करने के आदेश के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अाज कहा कि उच्चतम न्यायालय के फैसले के अध्ययन के बाद इस पर कोई निर्णय लिया जाएगा।

श्री चौहान ने यहां संवाददाताओं से कहा कि राज्य के महाधिवक्ता को फैसले का अध्ययन करने को कहा गया है। उसके बाद अगर न्यायालय में कोई बात रखनी होगी तो रखी जाएगी।

मध्यप्रदेश समेत गुजरात, राजस्थान और हरियाणा की सरकार ने इस फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाई हुई थी। इसी रोक को चुनौती देते हुए फिल्म के निर्माता उच्चतम न्यायालय की शरण में चले गए थे, जिस पर कल सुनवाई करते हुए न्यायालय ने अपने फैसले में फिल्म को पूरे देश में प्रदर्शित करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद सरकारों के इस फैसले के पुनरीक्षण याचिका लगाने की अटकलों को भी जोर मिला था।

कल न्यायालय का फैसला आने के बाद करणी सेना ने फिल्म के प्रदर्शन पर प्रतिबंध जारी रखने की चेतावनी दी थी।

‘पद्मावती’ फिल्म पर मचे बवाल के बाद मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस पर प्रतिबंध लगाए जाने की घोषणा की थी। फिल्म का नाम बदल कर ‘पद्मावत’ किए जाने के बाद भी फिल्म पर से प्रदेश में प्रतिबंध नहीं हटाया गया था। प्रदेश के रतलाम जिले में पिछले दिनों एक स्कूल के वार्षिकोत्सव में फिल्म का घूमर गाना बजाए जाने पर करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने स्कूल में जमकर तोड़फोड़ की थी।

Related Posts: