garbaभोपाल,  राजधानी के एमपी नगर में छात्रों के लिए पहली बार आयोजित गरबे के दूसरे और अंतिम दिन छात्रों की भीड़ दो गुनी रही. स्टूडेंट हब बन चुके इंन्द्रपुरी, अयोध्यानगर, होशंगाबांद और चूना भटटी के छात्रों ने जमकर भागीदारी की.

आम धारणा है कि छात्रों के कार्यक्रमों में हंगामा होता है.मगर जोन — 2 में आयोजित गरबा भक्ति रस मे डूबा नजर आया. स्थानीय लोगों ने भी दो दिवसीय गरबा हर्ष —टेक के अंतिम दिन बढ़चढकर भागीदारी की.

युवा भगवान कृष्ण, शिव, राम सहित विभिन्न रूपों में सजधज कर थिरकते नजर आए. गरबा में राजस्थान की संस्कृति के साथ पंजाब, गुजराती, महाराष्ट्र्र, दक्षिण भारत के राज्यों की संस्कृति की छटा बिखेरने से गरबा का उत्साह परवान चढ़ता गया. केसरिया बालम आवो नी पधारो म्हारे देस, ढोली तारों ढोल बाजे… आदि गानों पर छात्र देर रात तक गरबा करते रहे.

मीडिया पार्टनर नवभारत और कॉगनेट माइंड्स के सहयोग दो दिवसीय हर्ष-टेक गरबा के अंतिम दिन का शुभारंभ गणेश वंदना से हुआ. इस अवसर पर सह आयोजक ऑनडोर कॉन्सेप्ट्स एवं विक्रमाद्वित्य गु्रप ऑफ इंस्टीट्यूशन एवं वाय आर रियेलिटीज प्रॉपर्टी डीलिंग कंपनी के प्रतिनिधी विशेष रूप से उपस्थित रहे.

निगम कमिश्नर सम्मानित
हर्ष् टेक गरबे के अंतिम दिन महाआरती से गरबे का शुभारंभ पूर्व महापौर कृष्णा गौर ने किया. मौके पर नगर निगम कमिशनर तेजस्वी एस नायक मौजूद रहे. कॉगनेट माइंड संस्था की ओर से उन्हें यूथ आयकॉन अवार्ड से सम्मानित किया गया.

युवाओं से स्वच्छता की अपील
नगर निगम कर्मियों ने हर्ष टेक गरबा में शामिल युवाओ से स्वच्छता बनाए रखने की अपील गरबे के दौरान.मंच पर पहुंच कर छात्रों से कचरा कूडेदान में डालने के लिए कहा गया.साथ की सफाई व्यवस्था बेहतर बनाने में योगदान की बात की गई.

हॉस्टल स्टूडेंट हुए शामिल
हर्ष- टेक गरबे के अंतिम दिन एमपी नगर जोन — 2 स्थित हॉस्टल के छात्रों को भी आमंत्रित किया गया. गौरतलब है कि एमपीनगर में तीन हजार के करीब छोटे बड़े छात्रावास हैं.इनमें 5 हजार से अधिक छात्र रह कर पढाई कर रहे हैं.त्यौहारों पर बहुत कम छात्र घर जा पा रहे हैं.उन्हें देवी आराधना से जोडने के लिए आयोजित गरबे में सभी ने बढ़चढ़ कर भागीदारी की.

होगा सेल्फी पॉइंट
हर्ष-टेक गरबे में विशेष फोटो की व्यवस्था की गई है.शहर के युवा फोटोग्राफर कबीर कुमार द्वारा फोटो सेशन किया जाएगा.इस दौरान फोटो खिंचाने के शौकीन यहां तस्वीर खिंचवा सकेंगे.कॉगनेेट माइंड संस्था की ओर से यह सुविधा निशुल्क रखी गई है.