19as20भोपाल, 19 फरवरी . मूल रुप से महाभारत के प्रसंग पर आधरित गायन से गुरुवार को भारत भवन का सभागार गूंजयमान हो रहा था, मोका था सुप्रसिद्घ गायक तीजन बाई के शास्त्रीय गायन का जिसने मानों सभागार में उपस्थित श्रोताओं का मन मोन लिया.

जैसे ही तीजन बाई ने अपने पंडवानी गायन में अपनी प्रस्तुति की शुरुआत की सभागार में उपस्थित दर्शकों ने उनके सुरों का तालियों के साथ स्वागत किया. उसके बाद तीजन बाई ने अपने चिर परिचित अंदाज में पंडवानी गायन से श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर दिया. जैसे ही मंच वह शब्दों को अपने सुरों में तब्दील करती थी दर्शक भी थिरकने को मजबुर हो जाते थे. विदित हो तीजन बाई ने देश के कौने-कौने तक अपने सुरों के बल पर भारत में अपना नाम रोशन किया है.
उन्हें भारत सरकार की और से पद्यभूषण सम्मान वर्ष 2003 में दिया गया, वर्ष 1988 में पदमश्री और संगीत नाटक अकादमी अवर्ड सन् 1995 में जैसे कई पुरस्कारों से तीजनबाई को सम्मानित किया जा चुका है.

Related Posts: