bhopal_gas_tragedyभोपाल,  मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में लगभग 32 साल पहले हुई भीषण गैस त्रासदी के शिकार लोगों ने उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों के राजधानी आगमन के पहले उनसे गुजारिश की है कि वे न्यायालय में पांच वर्ष से लंबित मुआवजे प्रकरण पर जल्द सुनवाई करें।

नसीर अहमद एवं अनीस कुरैशी सहित अन्य कई गैस पीडितों ने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों के शुक्रवार और शनिवार को भोपाल आगमन पर वे उनके कार्यक्रम स्थल नेशनल ज्युडिशियल अकादमी के गेट पर न्यायाधीशों को अपनी दरख्वास्त सौंपने का प्रयास करेंगे। इसके अलावा उन्होंने व्हाट्स ऐप के जरिए आम गैस पीडितों से अपील की है कि वे कल और परसों शाम चार से छह बजे के बीच लाल रंग की पतंग उडाकर अपनी गुहार भेजे।

भोपाल में तीन दिसंबर 1984 को यूनियन कार्बाइड कारखाने से मिथाइल आइसोसाइनेट नामक जहरीली गैस का रिसाव हुआ था। इसमें हजारों लोगों की असमय मौत हो गयी थी तथा लाखों लोग आज भी इस जहरीली गैस से प्रभावित हैं।

Related Posts: