सीहोर,  तीन दिन बाद जिसके साथ वह सात फेरे लेकर जन्म- जन्म के बंधन में बंधने जा रही थी, उस भावी पति की पहली पत्नी को सामने देख दुल्हन बनने जा रही युवती के होश उड़ गए. अपने अरमानों को कुचलने और परिवार की बदनामी करने वाले फरेबी भावी पति को सबक सिखाने के लिए पुलिस थाने में दस्तक दी है.

जिला मुख्यालय के कोली मोहल्ला निवासी स्वर्गीय रामनारायण कोली के घर में शादी की चहल- पहल बनी हुई थी. उनकी बिटिया वर्षा शाक्य का विवाह शनिवार को भोपाल के बैरसिया रोड स्थित बाफना कालोनी निवासी राजेश उर्फ प्रताप आत्मज रामकिशन के साथ सम्पन्न होने जा रहा था. इस वैवाहिक आयोजन की सभी तैयारियां पूरी हो चुकी थीं और मेहमानों को आमंत्रण पत्र भी भेजे जा चुके थे.
बदनामी करने वाले को मिले सजा

फरेबी के हाथों मंगलसूत्र पहनने से एनवक्त पर बची वर्षा के मन में पति बनने जा रहे राजेश के प्रति इतनी नफरत उमड़ी कि उसने राजेश व उसके परिवार वालों को सबक सिखाने के लिए पुलिस के दरवाजे पर दस्तक दी है. वर्षा का कहना है कि राजेश ने धोखे में रखकर उसका जीवन बर्बाद करना चाहा था.

शादी के कार्ड रिश्तेदारों में बंट जाने और एक रस्म हो जाने के कारण उसके परिवार की समाज में बदनामी हुई है. नतीजतन शादी के नाम पर फरेब करने वाले राजेश और उसके परिवार वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए और शादी के नाम पर अब तक हुआ खर्च भी वापस दिलवाया जाए. पुलिस ने उसके आवेदन को जांच में लिया है और जांचोपरांत कार्रवाई की जा सकेगी.

Related Posts: