Supreme-Courtनयी दिल्ली,   उच्चतम न्यायालय ने बिहार में सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के मामले की जांच कर रहे केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को तीन महीने में जांच पूरी करने का आज निर्देश दिया।

शीर्ष अदालत ने मृतक की पत्नी आशा रंजन की ओर से दायर याचिका की सुनवाई के दौरान सीबीआई से कहा कि वह इस मामले की जांच तीन माह में पूरी करे। इससे पहले बिहार सरकार ने इस मामले में न्यायालय के नोटिस का जवाब दिया। जवाब में राज्य सरकार ने अपनी ओर से ओर सीवान जिला पुलिस की ओर से की गयी कार्रवाई का पूरा ब्याेरा दिया है।

गौरतलब है कि एक हिंदी दैनिक समाचार पत्र के पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड के मामले में उनकी पत्नी की ओर से याचिका दाखिल की गयी है। याचिकाकर्ता ने इस मामले की सुनवाई बिहार से बाहर कराने का न्यायालय से अनुरोध किया है।
उन्हाेंने नीतीश सरकार में स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव पर हत्यारों को संरक्षण देने और राष्ट्रीय जनता दल के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन पर हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया है। न्यायालय ने गत 23 सितम्बर को आशा रंजन की याचिका पर सुनवाई करते हुए मो.शहाबुद्दीन, तेज प्रताप यादव और बिहार सरकार को नोटिस जारी किये थे।

राज्य सरकार ने हत्या के बाद बढ़ते राजनीतिक दबाव के बीच मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की, जिस पर केंद्र सरकार की मंजूरी के पश्चात जांच एजेंसी ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

Related Posts: