modi_pichai_Ambaniन्यूयार्क, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी और गूगल के भारतीय मूल के मुख्य कार्यकारी सुंदर पिचाई उन 50 वैश्विक हस्तियों में शामिल हैं जिनके नाम टाइम पत्रिका के सालाना ‘पर्सन आफ द ईयर’ सम्मान के लिए प्रतिस्पर्धियों की सूची में शामिल हैं. ‘टाइम पर्सन आफ द ईयर’ 2015 की घोषणा अगले महीने होगी और पत्रिका ने कहा कि यह सम्मान उस व्यक्ति को दिया जाएगा जो अच्छी या बुरी वजहों से सबसे अधिक चर्चा में रहे हैं.

टाइम ने कहा कि मोदी ने भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को प्रोत्साहित किया और वह विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के आधुनिकीकरण की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उन्हें उन विवादों का भी सामना करना पड़ा जिन्हें कुछ लोग दक्षिणपंथी अतिवाद मानते हैं. मोदी पिछले साल भी सम्मान की प्रतिस्पर्धी सूची में थे.
उन्हें, हालांकि, टाइम के संपादकों ने सम्मान के लिए नहीं चुना लेकिन पाठकों के सर्वेक्षण में उन्हें विजेता घोषित किया गया और उन्हें 50 लाख मत में से 16 प्रतिशत से अधिक मत मिले.

अंबानी के संबंध में टाइम ने कहा कि भारत में सबसे अमीर व्यक्ति रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन हैं जिनके पास दूरसंचार परिसंपत्तियों से लेकर विश्व की कच्चे तेल की सबसे बड़ी रिफाइनरी तक है. अन्य प्रतिस्पर्धियों में पिचई भी शामिल हैं.

टाइम ने कहा ‘गूगल में 11 साल गुजारने के बाद पिचई इस कंपनी के प्रमुख बने। एक अलग तरह के सर्वेक्षण ‘फेस ऑफ’ (मुकाबला) में मोदी को चिनफिंग के बरअक्स रखा गया है जबकि अंबानी को नाइजीरिया के राष्ट्रपति मुहम्मदु बुहारी के मुकाबले में रखा गया है. टाइम ने अपने पाठकों से कहा है कि वे ऐसे व्यक्ति के लिए मत दें जिनके बारे में उन्हें लगता है कि ‘पर्सन आफ द ईयर’ पुरस्कार दिया जाना चाहिए.

पाठकों की पसंद का सम्मान जीतने वाले घोषणा अगले महीने की जाएगी उसके बाद टाइम्स के संपादक सम्मान के लिए 58 उम्मीदवारों में से एक का चुनाव करेंगे. मोदी को अब तक 1.3 प्रतिशत मत मिले हैं और इतने ही मत पिचई और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को मिले हैं। अंबानी को सिर्फ 0. 2 प्रतिशत मत मिले हैं.

Related Posts:

डा. खड़से व दुबे को श्री रामगोपाल माहेश्वरी सम्मान
अपराधियों पर पुलिस की चमक-धमक बनी रहे-सीएम
मेधावियों को मिलेंगे लैपटॉप, मुख्यमंत्री ने किया 'स्कूल चलें हम' अभियान का शुभार...
अकाली भाजपा गठबंधन लगायेगा हैट्रिक : जेटली
संयुक्त राष्ट्र ने की नाइजर सरकार से शिविरों की सुरक्षा बढ़ाने की अपील
चारा घोटाला मामले में सुप्रीम कोर्ट से लालू को झटका