नयी दिल्ली,

सार्वजनिक क्षेत्र की हेलिकॉप्टर सेवा प्रदाता कंपनी पवनहंस लिमिटेड में विनिवेश के लिए अभिरुचि पत्र जल्द आमंत्रित किये जायेंगे।

नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने आज यूनीवार्ता को बताया “पवनहंस के लिए भी एयर इंडिया की तर्ज पर ही अभिरुचि पत्र आमंत्रित किये जायेंगे।इसलिए इसके लिए भी आरंभिक सूचना पत्र जल्द जारी किया जायेगा।” सरकारी विमान सेवा कंपनी एयर इंडिया के लिए 28 मार्च को अभिरुचि पत्र आमंत्रित किये गये थे और इसके लिए 14 मई तक का समय दिया गया है।

पवनहंस में सरकार की 51 प्रतिशत और सार्वजनिक क्षेत्र की तेल एवं गैस अन्वेषण कंपनी ओएनजीसी की 49 प्रतिशत हिस्सेदारी है।सरकार अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच रही है।केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अक्टूबर 2016 में इसके लिए मंजूरी दी थी।

पिछले साल दिसंबर में अभिरुचि पत्र आमंत्रित किये गये थे, लेकिन सिर्फ एक वैध अभिरुचि पत्र आने के कारण विनिवेश परवान नहीं चढ़ सका।सरकारी नियमों के अनुसार, सिर्फ एक खरीदार होने की स्थिति में बोली प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ाई जा सकती।इसलिए पवनहंस के लिए बोली प्रक्रिया दोबारा शुरू की जानी है।

एयर इंडिया में संभावित खरीदारों के जिज्ञासाओं के जवाब देने की अंतिम तारीख 30 अप्रैल और अभिरुचि पत्र दाखिल करने की अंतिम तारीख 14 मई है।

इस दौरान कम समय मिलने की खरीदारों की शिकायतों के बारे में पूछे जाने पर श्री सिन्हा ने कहा कि एयर इंडिया के विनिवेश के बारे में काफी पहले से कंपनियों को पता था।वे पहले से तैयारी कर रही थीं और इसलिए यह कहना गलत होगा कि अभिरुचि पत्र दाखिल करने के लिए कम समय दिया गया है।

Related Posts: