पुणे,

महाराष्ट्र में पुणे जिले में भीमा-कोरेगांव हिंसा के कारण राज्य के पश्चिमी हिस्से के सभी सात जिलों में कर्फ्यू जैसे हालात बन गये हैं। भीमा-कोरेगांव में दो समुदायों के बीच कल शाम हुई हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गयी तथा कई अन्य घायल हुए हैं। घायलों को शहर के अलग-अलग इलाकों के निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़नवीस ने हिंसा की न्यायिक जांच के आदेश दिये जिसकी अध्यक्षता उच्च न्यायालय के वर्तमान न्यायाधीश करेंगे। श्री फड़नवीस ने हिंसा में मारे गये युवक के परिजनों को दस लाख सहायता राशि देने की घोषणा की है।

श्री फड़नवीस ने अफवाह नहीं फैलाने और शांति बनाये रखने की अपील की है। उन्होंने दोनों समुदायों के राजनेताओं से किसी भी एेसे बयान देने से बचने के लिए कहा जिससे तनाव उत्पन्न हो। श्री फड़नवीस ने सभी को न्याय दिलाने के लिए आश्वस्त किया है।

इस हिंसा के कारण मध्य तथा हार्बर लाइन की रेल सेवाएं प्रभावित हुई है। सैकड़ों लोगों ने मुलुंड,चेंबूर, भांदुप, रामाबाई, विखरोली के अंबेडकर नगर तथा कुर्ला के नेहरू नगर में ट्रेनों को रोका है।अतिरिक्त पुलिस आयुक्त लखमी गौतम ने कहा कि लोगों के एक समूह ने रास्ता रोकने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने विफल कर दिया है।

Related Posts: