नए सत्र में विजयी शुरुआत करने उतरेगी टीम इंडिया

हम्बनतोता, 20 जुलाई. डेढ़ महीने के लंबे आराम के बाद तरोताजा हुई टीम इंडिया आज यहां 2:30 महिंद्रा राजपक्षे इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में श्रीलंका के खिलाफ पहले एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच में उतरेगी तो उसका लक्ष्य पिछले सत्र की निराशा को भुलाकर नए सत्र में विजयी शुरुआत करना होगा.

पिछले वर्ष अपनी जमीन पर विश्वकप जीतने के बाद टीम इंडिया के प्रदर्शन में निरंतर गिरावट आयी थी. उसे इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज 0-4 से गंवाकर आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में अपनी बादशाहत खोनी पड़ी थी और फिर टीम आस्ट्रेलिया में भी टेस्ट सीरीज इसी अंतर से हार गयी थी. टीम इंडिया इस वर्ष मार्च में बंाग्लादेश में हुए एशिया कप के फाइनल में पहुंचने में भी नाकाम रही थी. कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी का भी कहना है कि टीम इंडिया के लिए नए सत्र में जीत के साथ शुरुआत करनी जरूरी है. धोनी ने श्रीलंका दौरे पर रवाना होने से पहले चेन्नई में कहा था कि डेढ़ महीने के आराम के बाद खिलाड़ी एकदम तरोताजा हो गए हैं और वे एक बार फिर मैदान पर पूरे जोशोखरोश के साथ खेलने को तैयार हैं. भारतीय खिलाड़ी श्रीलंका की परिस्थितियों से भलीभांति परिचित हैं. श्रीलंका भारतीय खिलाडिय़ों के लिए कोई नयी जगह नहीं है.

2005 के बाद से टीम इंडिया नियमित रूप से श्रीलंका का दौरा करती रही है और कभी-कभी तो साल में दो बार यहां आयी है. श्रीलंका दौरे से पहले टीम इंडिया ने चेन्नई में दो दिन अभ्यास किया था और इसमें अपनी कमजोरियों को दूर करने का प्रयास किया था.
भारत के लिए पांच वनडे मैचों का यह दौरा ऐतिहासिक साबित होने जा रहा है जहां उसके पास वनडे रैंकिंग में नंबर वन बनने का मौका रहेगा. भारत इस समय वनडे रैंकिंग में आस्ट्रेलिया (119) दक्षिण अफ्रीका (118) और इंग्लैंड (118) के बाद (117) अंकों के साथ चौथे स्थान पर है. भारत यदि यह सीरीज 5-0 के अंतर से जीत जाता है तो वह आस्ट्रेलिया को अपदस्थ कर नंबर वन बन जाएगा. विस्फोटक ओïपनर वीरेन्द्र सहवाग और जहीर खान की वापसी से टीम इंडिया मजबूत हुई है. इन दोनों खिलाडिय़ों को एशिया कप में आराम दिया गया था.
सहवाग और गौतम गंभीर भारत के लिए पारी की शुरुआत करेंगे जबकि इसके बाद विराट कोहली, रोहित शर्मा, सुरेश रैना, धोनी और मनोज तिवारी पर भारतीय पारी को आगे बढ़ाने का दारोमदार होगा. युवा स्टार बल्लेबाज कोहली इस दौरे में अच्छे प्रदर्शन के दम पर आईसीसी वनडे रैंकिंग में नंबर एक बल्लेबाज बन सकते हैं.

वनडे में 85 मैचों में 50.56 के प्रभावशाली औसत से 3590 रन बना चुके कोहली को मौजूदा समय में भारतीय मध्यक्रम की रीढ़ माना जाता है. अब तक 11 शतक और 21 अर्द्धशतक ठोककर कोहली इतनी संख्या के मैचों में मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से भी आगे निकल गए हैं. कोहली के बल्ले से वर्ष 2012 में तीन शतक निकले हैं जिनमें से दो शत््ïक उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ ही मारे हैं. एशिया कप में मार्च में ढाका में पाकिस्तान के खिलाफ 183 रन की पारी ने उन्हें नया स्टारडम दिया है.

टीम को एक बार फिर उनसे ऐसे ही दमदार प्रदर्शन की उम्मीद रहेगी. कप्तान धोनी के लिए भी यह सीरीज काफी अहम साबित होने जा रही है. धोनी इस सीरीज के दौरान श्रीलंका के खिलाफ 2000 रन और और करियर में 7000 रन भी पूरे सकते हैं. भारतीय कप्तान ने श्रीलंका के खिलाफ 50 मैचों में 63.53 के औसत से कुल 1906 रन बनाए हैं. सीरीज में 94 रन बनाने के साथ ही वह श्रीलंका के खिलाफ 2000 रन पूरे कर लेंगे. मध्यक्रम के बल्लेबाज रैना श्रीलंका के खिलाफ 1000 वनडे रन पूरे कर सकते हैं. उनके खाते में 42 मैचों में 937 रन हैं. इसके अलावा टीम इंडिया में वापसी करने वाले बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जहीर दोनों देशों के बीच सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज भी बन सकते हैं. जहीर ने श्रीलंका के खिलाफ 62 विकेट हासिल किए हैं और सीरीज में 13 विकेट लेकर वह मुथैया मुरलीधरन (74 विके ट) और चमिंडा वास (70 विकेट) को पीछे छोड़कर दोनों देशों के बीच सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बन सकते हैं.

तेज गेंदबाज उमेश यादव की भी इस दौरे के लिए टीम में वापसी हुई है. उन्हें एशिया कप में आराम दिया गया था. तीसरे तेज गेंदबाज के रूप में अशोक डिंडा या इरफान पठान में से किसी एक को अंतिम एकादश में लिया जा सकता है. इरफान को आर विनय कुमार के चोटिल होने के कारण टीम में जगह मिली है. स्पिन विभाग में भारत के पास आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन, लेग स्पिनर राहुल शर्मा और लेफ्ट आर्म स्पिनर प्रज्ञान ओझा के रूप में तीन विकल्प मौजूद हैं. दूसरी ओर श्रीलंका के कप्तान माहेला जयवर्द्धने ने कहा है कि उनकी टीम पाकिस्तान के खिलाफ वनडे और टेस्ट सीरीज में मिली जीत के सिलसिले को भारत के खिलाफ भी जारी रखेगी. माहेला ने कहा हमने हाल ही में पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में जीत दर्ज की है और अब हमारा लक्ष्य इस सिलसिले को भारत के खिलाफ भी जारी रखना है.

21 सितंबर से शुरु होगा नया घरेलू सत्र

म.प्र. की टीम ग्रुप ए. में
नई दिल्ली,  भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने अगले घरेलू सत्र के कार्यक्रम की घोषणा कर दी जो 21 सितंबर से जयपुर में ईरानी ट्राफी के साथ शुरु होगा. रणजी ट्राफी संशोधित प्रारूप के साथ दो नवंबर से शुरु होगी. ईरानी ट्राफी के बाद अक्टूबर में सीमित ओवर के टूर्नामेंट एनकेपी साल्वे चैलेंजर ट्राफी और अंतरक्षेत्रीय टूर्नामेंट दलीप ट्राफी का आयोजन होगा.

रणजी ट्राफी के लिए 27 टीमों को नौ-नौ के तीन ग्रुप में बांटा गया है. मौजूदा चैंपियन राजस्थान को ग्रुप-ए में रखा गया है. ग्रुप-ए में राजस्थान के अलावा मुंबई, हैदराबाद, मध्य प्रदेश, सौराष्ट्र, रेलवे, बंगाल, पंजाब और गुजरात को रखा गया है. इनमे से मुंबई, हैदराबाद और मध्य प्रदेश ने पिछले सत्र में नाकआउट के लिए क्वालीफाई किया था. ग्रुप-बी में गत उपविजेता तमिलनाडु, हरियाणा, महाराष्ट्र, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, विदर्भ, दिल्ली, बडौदा और ओडिशा को रखा गया है. हरियाणा, महाराष्ट्र और कर्नाटक की टीमें पिछले सत्र में नाकआउट में पहुंची थीं. ग्रुप-सी में उन नौ टीमों को रखा गया है जो पिछले सत्र प्लेट लीग में खेली. रणजी ट्राफी के बाद सीमित ओवर के कारपोरेट कप और ईरानी कप का आयोजन होगा. अगले साल से ईरानी कप रणजी ट्राफी के बाद खेला जाएगा. सत्र के अंत में सीमित ओवर के टूर्नामेंट विजय हजारे और ट्राफी देवधर ट्राफी का आयोजन होगा जबकि सत्र का समापन ट्ïवंटी-20 सैय्यद मुश्ताक अली ट्राफी से होगा.पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली की अध्यक्षता वाली बीसीसीआई की तकनीकी समिति ने रणजी ट्राफी को आकर्षक बनाने के लिए इसके प्रारूप में बदलाव की सिफारिश की थी जिसे कार्य समिति ने मान लिया था. साथ ही सीमित ओवर के मैचों में प्रति ओवर दो बाउंसर फेंकने और एक गेंदबाज को अधिकतम 12 ओवर फेंकने की अनुमति को भी मंजूर किया गया था.

रणजी ट्राफी के लिए ग्रुप इस प्रकार हैं:

ग्रुप-ए: राजस्थान, मुंबई, हैदराबाद, मध्य प्रदेश, सौराष्ट्र, रेलवे, बंगाल, पंजाब और गुजरात.
गुप-बी: तमिलनाडु, हरियाणा, महाराष्ट्र, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, विदर्भ, दिल्ली, बडौदा और ओडिशा.
ग्रुप-सी: हिमाचल प्रदेश, केरल, आंध्र प्रदेश, सेना, त्रिपुरा, गोवा, झारखंड, जम्मू एवं कश्मीर और असम.

टीमें इस प्रकार हैं :

भारत: महेन्द्र सिंह धोनी (कप्तान) विराट कोहली, वीरेन्द्र सहवाग, गौतम गंभीर, रोहित शर्मा, सुरेश रैना, मनोज तिवारी, जहीर खान, रविचंद्रन अश्विन, इरफान पठान, राहुल शर्मा, अशोक डिंडा, प्रज्ञान ओझा, उमेश यादव और अजिंक्या रहाणे.

श्रीलंका: माहेला जयवर्धने (कप्तान) एंजेलो मैथ्यूज, तिलकरत्ने दिलशान, कुमार संगकारा, उपुल तरंगा, दिनेश चांडीमल, नुवान कुलशेखरा, तिषारा परेरा, लाहिर तिरिमाने, लसित मलिंगा, चामरा कापूगेदेरा, रंगना हेरात, सचित्रा सेनानायकेद्व जीवन मेंडिस और इसुर उदाना.

Related Posts:

वीना ने कहा प्रचार पाना मकसद नहीं था
कोहली की पहली जीत पर खुश हुए गावस्कर
तमिलनाडु में बारिश का कहर: भारी बारिश से थम गई जिंदगी
सम्पूर्ण विश्व के लिये आस्था का केन्द्र है उज्जैन नगरी : माया सिंह
कावेरी विवाद : कर्नाटक में रेल रोको प्रदर्शन
कश्मीर घाटी का लगातार तीसरे दिन देश के दूसरे भागों से सड़क संपर्कविच्छेद