vk_singhनयी दिल्ली,  सरकार ने आज कहा कि भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिव की हाल में हुई बैठक आैपचारिक नहीं बल्कि शिष्टाचार मुलाकात थी। विदेश राज्यमंत्री जनरल वी के सिंह ने राज्यसभा में एक पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत का माहौल बनाने के लिए निरंतर एक प्रक्रिया चलती है और हाल में ही नयी दिल्ली में विदेश सचिव एस जयशंकर और पाकिस्तान के विदेश सचिव एजाज अहमद चौधरी के बीच द्विपक्षीय बैठक हुई थी।

उन्हाेंने कहा कि यह बैठक अनौपचारिक नहीं थी बल्कि शिष्टाचार मुलाकात थी और इसके बहुत अर्थ नहीं निकाले जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के विदेश सचिव हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में भाग लेने भारत आए थे।

पठानकोट आतंकवादी हमले की जांच के लिए भारत आये पाकिस्तान के संयुक्त जांच दल (जेआईटी) काे दिए सबूतों का दुरुपयोग होने की आशंका को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि जेआईटी और राष्ट्रीय जांच एजेंसी के अधिकारियों के बीच बहुत पेशेवराना ढंग से बातचीत की हुई है और उनको दिए गए सबूतों की प्रतियां भारत के पास हैं। केंद्रीय मंत्री ने उम्मीद जताई कि जेआईटी के बाद पाकिस्तान भी भारतीय जांच दल को पठानकोट आतंकवादी हमले की जांच के लिए आमंत्रित करेगा।

जेआईटी के निष्कर्षों के संबंध में मीडिया में आई परस्पर विरोधी खबरों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने इस संबंध में अधिकारिक बयान नहीं दिया है। जेआईटी के भारत आगमन को भारतीय राजनय की सफलता बताते हुए जनरल सिंह ने कहा कि पहली बार पाकिस्तान का रुख सहयोगात्मक रहा है।

Related Posts:

बी बच्चन की तस्वीर खरीदने की होड़!
विमान हादसे में नहीं हुई थी मौत, पत्रों से मिलता है संकेत: ममता
अर्थव्यवस्था की मजबूती के लिए सुधारों की प्रक्रिया रहेगी जारी : जेटली
मेट्रो शहरों में योग करने वालों की संख्या 30 प्रतिशत बढ़ी : एसोचैम
अखिलेश पहुचे चाचा के घर दोपहर का भोजन करने
पूर्व एयर चीफ त्यागी के बचाव में आये वायु सेना प्रमुख राहा