azazवाशिंगटन,  पाकिस्तान के दो राजनयिकों ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाल के वक्तव्यों को दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने के संयुक्त राष्ट्र के घोषणापत्र के विरूद्ध बताया है, लेकिन इसे लेकर बढ़ते तनाव के बावजूद दोनों पड़ोसियों के बीच युद्ध की किसी भी आशंका को खारिज किया है।

पाकिस्तान के अमेरिका स्थित राजदूत जलील अब्बास जिलानी तथा विदेश सचिव एजाज चौधरी ने अपने देश के अखबार डान से कहा कि लड़ाई शुरू करने का पाकिस्तान का कोई इरादा नहीं है और भारत भी यह अनुभव करता है कि इससे उसकी अर्थव्यवस्था नष्ट हो जायेगी।

पाकिस्तानी राजनयिकों ने कहा कि भारत उनके देश के विरूद्ध अभियान चलाकर अपना नुकसान कर रहा है और इससे वह दुनिया में अपने आपको अलग थलग कर रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने क्षेत्र में रूस जैसे नये मित्र देश बनाये है जबकि तुर्की और मध्य एशिया के उसके पुराने मित्र न केवल उसके साथ है बल्कि उसका समर्थन कर रहे है। उन्होंने कहा कि अमेरिका से भी पाकिस्तान की निकटता बनी हुई है।