ujjainujjain1उज्जैन, 27 जुलाई. नससे. गत दिनों से बरसात के चलते मंदिरों की भी हालत खराब हैं, अधिकांश मंदिरों में पानी भरा हुआ है और इस कारण न तो प्रभु के श्रृंगार ही हो रहे हैं और न ही नित्य की तरह ही सुबह या शाम आरती, और न ही भक्तों का तांता मंदिरों में दिखाई दे सकता है. मंदिरों की इस स्थिति के कारण भक्तों के साथ ही पुजारी मायूस है. इनका कहना है कि जैसी प्रभु की इच्छा….वैसा ही होगा, इसमें हम भी क्या कर सकते है.

शिप्रा तट स्थित मंदिरों में तो जब से बाढ़ आई है तभी से सभी मंदिर डूबे हुए हैं लेकिन शहर के भी कई मंदिर ऐसे हैं, जिनमें बारिश के कारण पानी भरा हुआ है. कही छतों से पानी अंदर प्रवेश कर रहा है तो कहीं जमीन से पानी भर गया है. जमीन से पानी रिसने के पीछे कारण मंदिरों से लगे कुए-बावड़ी होना बताया गया है. मंदिरों में इतना पानी भर चुका है कि न नित्य की तरह आरती ही आसानी से हो सकती है और न ही भोग अर्पण या श्रृंगार आदि किये जा सकते है. लिहाजा भक्तों के साथ ही मंदिर में सेवा कार्य करने वालों के चेहरों पर उदासी छाई हुई है. मंदिर के पुजारी और उनके साथ ही भक्तजन सुबह शाम मंदिरों से पानी निकालने की मशक्कत करते जरूर है लेकिन इसमें सफ लता इसलिए नहीं मिल पाती है क्योकि बारिश का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है. ऐसे में नित्य की तरह आरती करना तो दूर, भोग भी अर्पित करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. कुछ एक मंदिरों में तो लाईट भी बंद करना पड़ी है क्योकि करंट फैलने का डर बना हुआ हैं, ऐसे में मंदिरों में अंधेरा घुप्प रहता है. ऐसी स्थिति के कारण भक्त तथा पुजारी परेशान हैं तथा वे ईश्वर से प्रार्थना कर रहे हैं कि बारिश अब रूक जाए, ताकि भगवान की सेवा की जा सके.

जिले में अब तक 1055 मिमी वर्षा हुई – जिले में अभी से वर्षा अपनें औसत आंकड़े को पार कर चुकी है. 27 जुलाई की सुबह 8 बजे तक जिले में 1055 मिमी. वर्षा दर्ज की जा चुकी है. जिलें में औसत वर्षा 906 मिमी. मानी जाती है. गत वर्ष इसी अवधि तक जिलें में 280.9 मिमी. वर्षा दर्ज की गई थी. गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष अब तक 774 मिमी अधिक वर्षा हो चुकी है.

अधिक्षक भू-अभिलेख ने बताया कि 27 जुलाई को सुबह 8 बजे समाप्त हुए 24 घंटों में जिलें के वर्षा मापी केन्द्रों पर औसत 38.4 मिमी. वर्षा दर्ज की गई. इस अवधि में सर्वाधिक वर्षा नागदा वर्षामापी केन्द्र पर 53 मि.मी. रिकॉर्ड की गई.
महिदपुर में 50, खाचरौद में 46, बडऩगर में 40, उज्जैन तहसील में 34, तराना में 26 तथा घट्टिया मापी केन्द्र पर 20 मिमी. वर्षा रिकॉर्ड की गई. 1 जून से लेकर अब तक जिले के खाचरौद में सर्वाधिक 1159 मिमी. वर्षा रिकॉर्ड की गई है इसके अलावा उज्जैन तहसील में 1132, तराना में 1051, घट्टिया में 1025, बडऩगर 1092, महिदपुर में 986 तथा नागदा में 941 मि.मी. वर्षा रिकॉर्ड की जा चुकी है.

Related Posts: