mp2पारा/धार,  होली के पूर्व साप्ताहिक हाट बाजार में सात दिनों तक लगने वाला परंपरागत पर्व भगोरिया गुरुवार को पारा में उत्साह के साथ संपन्न हुआ। सुबह से ही ग्रामीण अंचलो से युवक-युवतिया सजधज कर अपने परंपरागत वेशभुषा के साथ आधुनिक परिधान में ढोल मांदल की थाप पर नाचते गाते शामिल होने लगे थे।

ज्यादातर युवक-युवतिया एक जेैसे परिधान में थे। वही व्यापारियों ने महिने भर पहले से भगोरिया को लेकर तैेयारियां शुरु कर दी थी। लेकिन क्षेत्र का पहला भगोरिया होने के कारण व्यापारियों को निराशा हाथ लगी। व्यापार नही के बारबर था।

व्यापारी लोग दिन भर खाली हाथ बेैठे रहे वही कुल्फ ी आईस्क्रीम का कारोबार अच्छा चला। पारा के खेल मेैदान पर दंबगो का कब्जा होने के कारण भगोरिया मेला नगर के मेन बाजार व पुराने तालाब में लगाया गया जहां सेैकडों की तादाद में झुले-चकरी व बच्चों के मनोरंजन के साधन आए। वही पान, कुल्फ ी, आईस्क्रीम, सेव, भजिए, मिठाई, चश्मे, नारीयल, माजम, कांकडी, खजुर, सोैन्दर्य प्रसाधन के सामान, कपडे आदी की दुकाने भी बडी मात्रा में लगी थी। दोपहर बाद भगोरिया मेला परवान चढा। नगर में चारों और भीड ही भीड दिखी। हर कोई भगोरिया की मस्ती में नाचते गाते कुर्राटी मारते हुए झुम रहा था।

क्षेत्र के विभिन्न संगठनो व पंचायत ने पीने के पानी की जगह-जगह व्यवस्था की थी। वही पुलिस प्रशासन ने करीब दो दर्जन जवानों, घुडसवार, सेैनिक व कोटवार के साथ फलेग मार्च किया और कोई अप्रिय घटना नही घटने दी। पारा चोैकी प्रभारी बीआर बघेल अपने दलबल सहित लगातार भगोरिये की सुरक्षा व्यवस्था का जयजा ले रहे।

Related Posts:

विकास के लिए पंचायतों को मिलेंगे 10 लाख प्रति वर्ष
विधानसभा नियुक्ति घोटाले के आरोपी की गिरफ्तारी पर रोक
अनामिका के पिता ने कहा- दहेज प्रताडऩा ने ली जान
अब राजपूतों ने आरक्षण को लेकर निकाली रैलियां
मध्यप्रदेश के रतलाम के पास बस तालाब में गिरने के कारण दस यात्रियों की मौत
महिलाएं ठान लें तो नर्मदा तट रहेंगे साफ