मध्यप्रदेश में लगभग सभी जगह गर्मी अपने पूरे जोरों पर आ गयी है. राजधानी में तापमान 40 डिग्री के पार कर गया और गर्मी में घंटों के आधार पर तेजी आती जा रही है. भोपाल के साथ-साथ पारा 40 से ऊपर होशंगाबाद, खरगोन, ग्वालियर, राजगढ़, गुना, शाजापुर, रतलाम को भी हाल बेहाल किये हुए है.

मौसम विभाग के अनुसार पंजाब के ऊपर से तमिलनाड तक द्रोणिका बनी है और इसके ऊपर से बादल आ सकते है और कहीं कहीं हल्की बारिश भी हो सकती है. लेकिन गर्मी में होने वाली बारिश भी और मुसीबत बढ़ाने वाली हो जाती है. अभी सूखी गर्मी पड़ रही है. वर्षा हो गयी तो मौसम में आने वाली आद्र्रता से उमस (हुमिडीटी) बढ़ जाती है. वह बड़ी ही त्रासदायक होती है. सभी जगह पानी का संकट गहराता जा रहा है.

अभी मौसम विभाग ने आने वाले मानसून का पूर्वानुमान दिया है कि इस साल आने वाला मानसून 100 प्रतिशत सामान्य रहेगा जिसका अर्थ होता है कि राज्य में 88-89 सेंटीमीटर बारिश हो पायेगी. इस साल वर्षा का औसत कम रहा और राज्य के बड़े बांध पूरे नहीं भरे. राज्य की सबसे बड़ी नदी नर्मदा में भी पानी काफी कम हो गया. नर्मदा पर बने बांध भी काफी खाली हो चुके है.

Related Posts: