mp2खंडवा,  पिता की प्रेमिका को बेटी ने ऐसी दर्दनाक मौत दी जिससे पत्थर दिल वालों का कलेजा भी कांप गया। खेत में उसने साथियों के साथ खतरनाक अंजाम दिया। खंडवा से 9 किमी दूर पीपल्या तहार की इस वारदात का पर्दाफाश हो गया। बेटी ही हत्या की मुख्य आरोपी निकली। जिले में इस तरह की घटना संभवत: पहले कभी नहीं हुई।

आपको याद होगा कि तीन दिन पहले मोघट थाने के पीपल्या तहार गांव में महिला की निर्वस्त्र लाश मिली थी। शक था कि गैंगरेप फि र हत्या हो गई। मृतका निर्मला बाई के पति ने पांच लोगों के नाम लेकर इन दोनों कृत्यों को अंजाम देने का आरोप लगाया था। जाँच वहीं घूमती रही।

पुलिस पूछताछ में रक्षा ने कबूल किया कि निर्मला और उसके पिता अशोक के व्यवहार के कारण घर डिस्टर्ब हो गया था। बात बात में निर्मला के सामने उसकी माँ की पिटाई होती थी। बच्चे भी देवर के घर मनमाड़ में रिश्तेदार के यहाँ रहने लगे थे। रक्षा को यह सब अच्छा नहीं लगता था। बात जब सारी सीमाएं तोड़कर हद के पार हो गई तो रक्षा ने खतरनाक प्लान बनाया।

फिल्मी स्टाइल में पहुंची खेत
घटना के दिन निर्मला का पीछा करते रक्षा व तीन भाई दोपहर चार बजे खेत में पहुंचे। मोटरसायकल पर वे आए थे। मृतिका को घेरा और दौड़ा दौड़ाकर पीटा। उसे इतनी बेदर्दी से मारा कि दांत व हड्डियाँ तोड़ दीं। रक्षा प्रतिशोध के कारण इतनी गुस्से में थी कि निर्मला प्राणों की भीख मांगती रही लेकिन किसी को रहम नहीं आया। रक्षा सारी तैयारी से फिल्मी स्टाइल में खेत पहुंची थी।

काल बनकर किया पीछा
पुलिस के मुताबिक रक्षा ने 2 जून को अपने छोटे भाईयों को साथ लेकर निर्मला को सबक सिखाने की योजना बनाई। पीपल्या तहार के जंगल में मोटरसाईकिल से पहुंची। निर्मला को मारते समय उसके कपड़े भी उतार दिए थे। उसे चिलचिलाती धूप में पटक दिया।

मेहनतकश थी पुलिस टीम
पुलिस हत्या के कुछ घंटों बाद ही जाल की तरह बिछ गई। उसके पति भीमसिंह को भी शक के दायरे में रखा। एसपी महेंद्र सिकरवार ने बताया कि जाँच ऐसे खतरनाक बिंदु पर पहुंची कि पुलिस भी सन्न रह गई। हत्या की मुख्य अभियुक्त अशोक मालाकर के बेटी रक्षा निकली। उससे पूछताछ हुई तो सब कुछ साफ हो गया।

यह था मामला
इसी शनिवार मृतिका का पति भीम सिंह जानकारी मिलने पर खेत पर पहुंचा। क्षत-विक्षत अवस्था में उसकी पत्नी का शव पड़ा हुआ था। शव के लेकर भीम सिंह और उसके परिजन रविवार को सुबह जिला अस्पताल पहुंचे। जहां परिजनों ने जमकर हंगामा मचाया। परिजनों ने दुष्कर्म के बाद हत्या का आरोप लगाते हुए अशोक मालाकार और उसके साथियों को गिरफ्तार करने की मांग की थी। पुलिस ने जाँच की तो अशोक मालाकार की पुत्री रक्षा ही मुख्य आरोपी निकली।

Related Posts: