26.02sag06सागर, 26 फरवरी, नससे. लोकायुक्त पुलिस ने आज पीएचई के एक उपयंत्री को निर्माणाधीन स्टापडेम की समय सीमा बठाने के लिए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. लोकायुक्त पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार फरियादी वेदप्रकाश चुतुर्वेदी पीएचई विभाग में ठेकेदार के रूप में पंजीकृत है और स्टापडेम निर्माण का ठेका लिए हुए है.

उसके निर्माणाधीन स्टापडेम की समयसीमा बढ़ाने का आवेदन दिया था, जिसके बिल में पीएचई उपयंत्री एके मोदी द्वारा उससे 6 हजार रूपए की रिश्वत मांगी गई थी. इसकी शिकायत ठेकेदार श्री चतुर्वेदी ने लोकायुक्त को की थी. लोकायुक्त पुलिस ने ठेकेदार एवं उपयंत्री की चर्चा को टेप रिकार्डर में रिकार्ड कराया. उपयंत्री बाद में 4 हजार रूपय पर सहमत हो गया था. आज दोपहर तहसीली स्थित पीएचई कार्यालय में जब ठेकेदार चतुर्वेदी ने उपयंत्री मोदी को चार हजार रूपए दिए तो लोकायुक्त टीम ने उसे मौके पर रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया. उपयंत्री मोदी के खिलाफ लोकायुक्त पुलिस ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर उसे निजी मुचलके पर रिहा कर दिया. इस कार्रवाई में लोकायुक्त पुलिस निरीक्षक एमएल चौहान, आरक्षक राजकुमार, नौशाद कुरैशी, राजेश सोनकर, ओम पाठक एवं मनोज कोरदू शामिल थे. पीएचई विभाग में लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई की खबर लगने पर वहां बड़ी संख्या में आसपास के शासकीय विभागों के कर्मचारियों का जमावड़ा लग गया था. तीन दिन में लोकायुक्त पुलिस की यह दूसरी कार्रवाई है. तीन दिन पूर्व कलेक्ट्रेट स्थित कृषि विभाग से एसडीओ को लोकायुक्त ने 15सौ रूपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा था.

Related Posts: