amitabhनई दिल्ली,   इंडिया गेट पर कल होने वाले कार्यक्रम में बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन के शामिल होने के मसले पर बवाल मच गया है. कांग्रेस ने इस कार्यक्रम में अमिताभ की उपस्थिति को लेकर कड़ी आपत्ति जताई तो जवाब में सरकार को सफाई में आगे आना पड़ा. यही नहीं खुद सीनियर-जूनियर बच्चनों को भी अपनी स्थिति स्पष्ट करनी पड़ गयी.

विधि एवं न्याय मंत्री डीवी सदानन्द गौड़ा ने स्पष्ट किया कि कल के पी एम के कार्यक्रम में अमिताभ की मौजूदगी से पनामा पेपर्स लीक मामले में जांच पर कोई असर नहीं पड़ेगा. उधर कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीपसिंह सुरजेवाला ने कहा – इस तरह के सरकारी कार्यक्रम में पनामा पेपर्स मामले में जांच का सामना कर रहे व्यक्ति का शामिल होना ठीक नहीं है.

इस मामले की जांच चल रही है और इससे जांच अधिकारियों और एजेंसियों को गलत संदेश जाएगा. प्रवक्ता ने कहा कि अमिताभ बच्चन बड़े कलाकार हैं और वह भी उनका सम्मान करते हैं, लेकिन पनामा पेपर्स लीक मामले में उन पर आरोप लगे हैं. आरोपों की जांच का काम चल रहा है और ऐसे में उनका सरकार की उपलब्धियां गिनाने वाले कार्यक्रम में भाग लेना ठीक नहीं है. उनका कहना था कि इस कार्यक्रम में खुद प्रधानमंत्री शामिल होंगे और उनके सानिध्य में बच्चन की मौजूदगी पर जांच एजेंसियों में संदेश ठीक नहीं जायेगा.

इस बीच, कांग्रेस के आरोपों पर अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर कहा कि वह प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का संचालन नहीं कर रहे हैं, बल्कि कार्यक्रम में शामिल होकर ‘बेटी बचाओ’ अभियान की उपब्धियों पर एक छोटी भूमिका निभा रहे हैं. उन्होंने लिखा कि ‘बेटी बचाओ’ उनके दिल से जुड़ा कार्यक्रम है और संयुक्तराष्ट्र के इस तरह के कार्यक्रम के एम्बेसडर भी हैं.

उन्होंने कहा है कि समारोह के लिए उन्हें वहां जाना है या नहीं, इसका निर्णय सरकार को करने दें. सरकार ने उन्हें बालिका शिक्षा पर संयुक्त राष्ट्र के एम्बेसडर के नाते ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओÓ कार्यक्रम के लिए उन्हें आमंत्रित किया है. इस मुद्दे पर जूनियर बच्चन अभिषेक ने भी अपने पिता का बचाव करते हुए कहा कि वह किसी राजनीतिक कार्यक्रम का संचालन नहीं कर रहे हैं.

Related Posts: