Manohar-Parrikarपणजी, रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर ने कहा है कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के साथ ही बलूचिस्तान और सिंध में पाकिस्तानी सेना द्वारा किए जाने वाले मानवाधिकार उल्लंघनों को वैश्विक मंच पर उठाए जाने की जरूरत है.
बंबोलिम में फंड जुटाने के मकसद से आयोजित एक कार्यक्रम में पार्रिकर ने कहा कि यह समय है जब आतंक के पनपने में पाकिस्तान की भूमिका के बारे में वैश्विक मंच पर बताया जाए. उन्होंने कहा कि भारत के लिए समय है कि पाकिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघनों पर रोशनी डाले.

इससे गंभीरता से निपटना होगा. पेशावर में बच्चों की हत्या हो रही है. नमाज अदा करने मस्जिद जा रहे लोग मारे जा रहे हैं. पीओके के साथ ही बलूचिस्तान और सिंध में मानवाधिकार उल्लंघनों के बारे में एक सवाल पर उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में हर जगह हत्याएं हो रही हैं. भारत से घृणा के अभियान का जो जहरीला बीज बोया गया यह उसका नतीजा है. यदि कश्मीरियों (भारतीय) को केवल यह पता चल जाए कि पाकिस्तानी सेना पाकिस्तान में क्या कर रही है तो मुझे नहीं लगता कि वे उसका हिस्सा बनना चाहेंगे.

कश्मीरी बेहद स्वाभिमानी लोग हैं. एक अन्य सवाल पर पार्रिकर ने कहा कि भारत अपनी रक्षा करने और प्रभावशाली तरीके से सीमा पार आतंकवाद को विफल करने में सक्षम है. जो भी करने की जरूरत है, देश कर रहा है. साथ ही कहा कि पाकिस्तान भारत की बढ़ती ताकत से चिंतित है.

Related Posts:

क्रिसमस ट्री की कहानी, सदियों पुरानी
नीतीश सीबीआई की तारीफ के बजाये आरोपी को राजनीतिक संरक्षण दे रहे हैं :सुशील मोदी
देखते ही रह गए गांधी चरखा
अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित कर सकते हैं मोदी
सुशासन और पारदर्शिता की बदौलत केन्द्र सरकार देश में विकास का पर्याय बनी : वैंकेय...
मुंबई हवाईअड्डे के पास ‘ड्रोन’ दिखने से हाई अलर्ट