लंदन,  आईसीसी महिला विश्वकप में भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी संभाल रहीं मिताली राज ने पुरूष खिलाड़ियों से तुलना किये जाने पर खासी नाराजगी जताई है।

विश्वकप में भारतीय क्रिकेट टीम अपने अभियान की शुरूआत इंग्लैंड के खिलाफ शनिवार से करेगी।

इससे पूर्व बुधवार को क्रिकेट टीमों के रात्रिभोज में जब उनसे उनके पसंदीदा पुरूष खिलाड़ी के बारे में पूछा गया तो वह पत्रकार के इस सवाल को सुनकर भड़क गयीं।

भारतीय कप्तान ने कहा“ पुरूष क्रिकेटरों से क्या कभी उनकी पसंदीदा महिला क्रिकेटर के बारे में पूछा जाता है, यदि ऐसा नहीं है तो महिला क्रिकेटरों से इस तरह का सवाल क्यों किया जाता है।

” उन्होंने कहा“मुझसे हमेशा ही इस तरह का सवाल किया जाता है लेकिन आप पुरूष क्रिकेटरों से ऐसा क्यों नहीं पूछते।

” मिताली ने साथ ही महिला क्रिकेटरों की पुरूषों के साथ तुलना नहीं करने का भी आग्रह किया।

कप्तान ने कहा“ हम जानते हैं कि महिला और पुरूष क्रिकेटरों के बीच काफी अंतर है क्योंकि हम हमेशा टीवी पर नहीं दिखते हैं।
बीसीसीआई ने अब प्रयास किया है कि हमारी आखिरी दो घरेलू सीरीज टीवी पर दिखाई जाये और सोशल मीडिया में भी अब सुधार आया है।
लेकिन फिर भी हमें उतनी पहचान नहीं मिली है।

” मिताली ने कहा“ पुरूष क्रिकेट ने हमारे लिये एक पैमाना तय कर दिया है और हम उस तक पहुंचने का प्रयास करते रहते हैं।

हम भी चाहते हैं कि महिला क्रिकेट उस स्तर तक पहुंचे।

हमें कई बार पुरूष क्रिकेटरों ने ही कोचिंग कराई है और वे हमसे काफी मेहनत कराते हैं।

” हाल में पूर्णिमा राउ के स्थान पर तुषार अरोथे को महिला टीम का कोच बनाया गया है।

हालांकि महिलाओं की पुरूष क्रिकेटरों से तुलना पर मिताली को काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है और सोशल मीडिया पर भी उनके जवाब की काफी तारीफ हुई है।

Related Posts: