cameronलंदन,  ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने टाटा स्टील की वित्तीय संकट से जूझ रही ब्रितानी इकाई टाटा स्टील यूके के प्रबंधन से कहा है कि वह पूरा समय ले, लेकिन यदि अपने ब्रितानी कारोबार को बेचती है तो उसे पूरी तरह बेचे।

यूरोपीय संघ में ब्रिटेन के भविष्य पर 23 जून को होने वाले जनमत संग्रह से पहले श्री कैमरन ने मंगलवार को टाटा स्टील यूके के वेल्स स्थित पोर्ट टैलबट संयंत्र का दौरा किया। उनकी सरकार नहीं चाहती की जनमत संग्रह से पहले हजारों लोग बेरोजगार हो जायें।

भारतीय कंपनी टाटा स्टील के शीर्ष प्रबंधन ने ब्रितानी कारोबार की बिक्री के लिए पिछले महीने से ही संभावित निवेशकों की तलाश शुरू कर दी है। इससे सस्ते चीनी आयात की मार झेल रहे ब्रिटेन के इस्पात उद्योग को बचाने के लिए सरकार पर दबाव बढ़ गया है।

श्री कैमरन की प्रवक्ता ने बताया कि प्रधानमंत्री स्वयं पोर्ट टैलबट संयंत्र की स्थिति का जायजा लेना चाहते थे। वह ब्लास्ट फर्नेस तथा फिनिशिंग लाइन के नियंत्रण कक्ष में गये।

प्रवक्ता ने कहा “इसके बाद उन्होंने टाटा प्रबंधन के वरिष्ठ अधिकारियों तथा (कर्मचारी) संघों के साथ बैठक की। इसमें उन्होंने मुख्य रूप से यह बताया कि इस्पात क्षेत्र की मदद के लिए सरकार क्या कर रही है।”

प्रवक्ता के अनुसार “प्रधानमंत्री ने पोर्ट टैलबट में इस्पात निर्माण के भविष्य को समर्थन देने के लिए टाटा के साथ काम करने की प्रतिबद्धता जताई। उन्होंने टाटा की ब्रिकी प्रक्रिया में पूरे कारोबार को शामिल करने की जरूरत पर बल दिया और कहा कि प्रक्रिया पूरी करने के लिए पूरा समय दिया जायेगा।”

टाटा समूह ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह जल्द से जल्द हरसंभव विकल्प ढूँढ़ने के लिए प्रतिबद्ध है। ब्रितानी सरकार ने कहा है कि वह टाटा स्टील के परिचालन को बचाने के किसी भी प्रयास में 25 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने को तैयार है और कम से कम दो संभावित खरीददारों ने इसमें रुचि दिखाई है।

सरकार का कहना है कि इस कारोबार को बचाने के उसके प्रयासों का यूरोपीय संघ के लिए होने वाले जनमत संग्रह से कोई लेना-देना नहीं है। उसका आरोप है कि यूरोपीय संघ से अलग होने के पक्षधर समूहों ने इस मौके को भुनाने का प्रयास किया है। दूसरे पक्ष का कहना है कि यूरोपीय संघ चीन से सस्ते इस्पात आयात को रोकने के लिए कोई कोशिश नहीं कर रहा है।

Related Posts: