cmझाबुआ,  पेटलावद ब्लास्ट में सौ से अधिक लोगों की वीभत्स मौत देखने के बाद बदहवास शहर धीरे-धीरे अपनी सामान्य दिनचर्या की और लौटने की कोशिश कर रहा है, लेकिन गम और गुस्से की गहरी परछाई अभी भी लोगों के चेहरों पर चस्पा है। उपरी तौर पर भले यह शहर सामान्य होता दिख रहा हो लेकिन भीतर एक गहरी तित्तआ में लिपटा हुआ है।

संपूर्ण मानवीय अस्तीत्व को बिंद देने वाला वह खौफनाक मंजर किसी को भी भुलाये नही भुल रहा है। बावजूद उसके की मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान आज लगातार दुसरे दिन हादसे में मारे गये लोगों के घर जाकर उनके परिजनों को ढांढस बंधा रहे है।

सोमवार को मुख्यमंत्री का पूरा काफिला लगभग 165 किमी का सफर तय कर पेटलावद तहसील के 19 गांव पहुंचा और सूरज ढलने तक मुख्यमंत्री 35 परिवारों के दर्द में शरीक हुए। हर गांव में उन्होने ग्रामीणों को भरोसा दिलाया कि वे जिंदगी के हर पल उनके साथ है और घर के एक सदस्य के तौर पर उनके लिए जो भी बन पड़ेगा वह मदद करेंगे।
इन गांवों में

Related Posts: